22 दिसम्बर को ही क्यों मनाया जाता है राष्ट्रीय गणित दिवस?

भारत में प्रतिवर्ष 22 दिसम्बर को राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिवस की घोषणा 26 फरवरी, 2012 को डॉ. मनमोहन सिंह ने की थी। इस दिवस को महान गणितज्ञ श्रीनिवास रामानुजन की समृति में मनाया जाता है। इस अवसर पर स्कूलों तथा महाविद्यालयों में गणित से सम्बंधित विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं।

श्रीनिवास रामानुजन

श्रीनिवास रामानुजन का जन्म 22 दिसम्बर, 1887 को मद्रास प्रेसीडेंसी के इरोड में हुआ था। उन्होंने गवर्नमेंट आर्ट्स कॉलेज, पचैयाप्पा कॉलेज, ट्रिनिटी कॉलेज, कैंब्रिज से पढाई की। उनका निधन 26 अप्रैल, 1920 को हुआ था। उन्हें निम्नलिखित गणितीय सिद्धांतों के लिए जाना जाता है :

  • लैंडो-रामानुजन स्थिरांक
  • रामानुजन-सोल्डनर स्थिरांकरामानुजन थीटा फलां
  • रोजर्स-रामानुजन तत्समक
  • रामानुजन अभाज्य
  • रामानुजन योग

उन्होंने संख्या सिद्धांत, गणितीय विश्लेषण, अनंत श्रृंखला और निरंतर अंशों में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। उनके कार्यो को एक अंग्रेजी गणितज्ञ हार्डी द्वारा पहचाना गया। 1913 में हार्डी ने रामानुजन को कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में आमंत्रित किया। हालांकि, 1919 में, हेपेटिक अमीबासिस ने रामानुजन को भारत लौटने के लिए मजबूर किया। बाद में, वे तपेदिक से पीड़ित हुए।

हार्डी-रामानुजन संख्या

1729 हार्डी रामानुजन नंबर है। जब हार्डी अस्पताल में रामानुजन से मिलने गए, तो रामानुजन ने हार्डी को बताया कि 1729 सबसे छोटी संख्या है जिसे दो अलग-अलग तरीकों से दो क्यूब्स के रूप में व्यक्त किया जा सकता है।

1729 = 1 3  + 12 3  = 9 3  + 10 3

Categories:

Tags: , , , , , , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments