23 सितंबर: अंतर्राष्ट्रीय सांकेतिक भाषा दिवस (International Day of Sign Languages)

हर साल, 23 ​​सितंबर को संयुक्त राष्ट्र द्वारा अंतर्राष्ट्रीय सांकेतिक भाषा दिवस (International Day of Sign Languages) के रूप में मनाया किया जाता है। यह दिवस 2018 से मनाया जा रहा है।

23 सितंबर ही क्यों?

23 सितंबर को अंतर्राष्ट्रीय सांकेतिक भाषा दिवस मनाने के लिए चुना गया है क्योंकि इस दिन World Federation of the Deaf का गठन किया गया था। यह बधिरों का विश्व संघ  है जो अंतर्राष्ट्रीय सांकेतिक भाषा दिवस मनाने की अवधारणा लेकर आया था।

सांकेतिक भाषाओं का पहला अंतर्राष्ट्रीय दिवस 2018 में बधिरों के अंतर्राष्ट्रीय सप्ताह के साथ मनाया गया था। इस सप्ताह को पहली बार 1958 में World Federation of the Deaf द्वारा मनाया गया था।

वर्ल्ड फेडरेशन ऑफ डेफ के अनुसार, पूरी दुनिया में 72 मिलियन से अधिक बधिर लोग हैं। 80% से अधिक बधिर लोग विकासशील देशों में रहते हैं और 300 से अधिक सांकेतिक भाषाओं का उपयोग करते हैं।

सतत विकास लक्ष्य (Sustainable Development Goals – SDG)

विश्व में विकलांगता की व्यापकता संयुक्त राष्ट्र SDG के लक्ष्य 10 से निकटता से संबंधित है। लक्ष्य 10 सभी के सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक समावेश को सशक्त और बढ़ावा देकर देशों के बीच असमानता को कम करने का प्रयास करता है। इसमें विकलांग व्यक्ति भी शामिल हैं।

दिव्यांगजनों के अधिकारों पर कन्वेंशन (Convention on the Rights of Persons with Disabilities)

यह बोली जाने वाली भाषाओं के समान सांकेतिक भाषाओं के उपयोग को मान्यता देता है और बढ़ावा देता है। इससे सांकेतिक भाषा सीखने में आसानी होती है।

इसे 2006 में अपनाया गया था। अब तक, इस कन्वेंशन को 177 अनुसमर्थन प्राप्त हुए हैं। इसका उद्देश्य विकलांग व्यक्तियों के साथ भेदभाव को समाप्त करना है। भारत ने 2007 में कन्वेंशन की पुष्टि की और दिव्यांगजनों के अधिकारों पर संयुक्त राष्ट्र कन्वेंशन के तहत दायित्वों को पूरा करने के लिए विकलांग व्यक्तियों के अधिकार अधिनियम, 2016 को अधिनियमित किया। साथ ही, भारत सरकार ने विकलांग लोगों के लिए सरकारी भवनों को अधिक सुलभ बनाने के लिए ‘सुगम भारत अभियान’ शुरू किया।

Categories:

Tags: , , , ,

« »

Advertisement

Comments