31 मई: विश्व तंबाकू निषेध दिवस (World No Tobacco Day)

विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा हर साल 31 मई को विश्व तंबाकू निषेध दिवस (World No Tobacco Day) मनाया जाता है

मुख्य बिंदु

यह दिन तंबाकू के उपयोग के खतरों के बारे में जागरूकता पैदा करता है। विश्व तंबाकू निषेध दिवस की पहल को 1987 में WHO द्वारा अपनाया गया था। यह दिन तंबाकू के कारण होने वाली 8 मिलियन से अधिक मौतों की ओर भी ध्यान आकर्षित करता है।

महत्व

विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के अनुसार 15 और 24 वर्ष की आयु के लगभग 17% युवा धूम्रपान कर रहे हैं। एक व्यक्ति जो 20 साल की उम्र से पहले धूम्रपान करना शुरू कर देता है, उसके नशे की लत विकसित होने की संभावना अधिक होती है। साथ ही इस दिन वर्ल्ड नो टोबैको अवॉर्ड्स भी बांटे जाते हैं।

भारत में धूम्रपान करने वाले

31 मई को विश्व तंबाकू निषेध दिवस (World No Tobacco Day) ​ से ठीक पहले, Global Burden of Disease ने दुनिया भर में धूम्रपान करने वालों की संख्या पर एक अध्ययन प्रकाशित किया है।

इस अध्ययन के अनुसार, भारत में 2019 में 15-24 आयु वर्ग के लगभग 2 करोड़ धूम्रपान करने वाले थे। यह दुनिया भर में तंबाकू धूम्रपान करने वालों की दूसरी सबसे बड़ी संख्या है। भारत में भी 1990 के बाद से 15-24 आयु वर्ग में धूम्रपान करने वालों की सबसे अधिक वृद्धि देखी गई।

वैश्विक परिदृश्य

  • इस अध्ययन के अनुसार, 2019 में धूम्रपान करने वालों की संख्या बढ़कर 1 बिलियन हो गई।
  • तंबाकू के सेवन से 7 मिलियन लोगों की मौत हुई।
  • नए धूम्रपान करने वालों में, 89% 25 साल की उम्र तक आदी हो गए थे।
  • दुनिया भर में 155 मिलियन धूम्रपान करने वाले 15-24 आयु वर्ग के हैं।

धूम्रपान करने वालों की सबसे अधिक संख्या वाले देश

तंबाकू धूम्रपान करने वालों की सबसे अधिक संख्या वाले 10 देशों में वैश्विक तंबाकू धूम्रपान करने वाली आबादी का दो-तिहाई हिस्सा है। शीर्ष 10 देश इस प्रकार हैं- चीन, भारत, इंडोनेशिया, अमेरिका, रूस, बांग्लादेश, जापान, तुर्की, वियतनाम और फिलीपींस।

 

Categories:

Tags: , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments