37% शार्क और रे (rays) के विलुप्त होने का खतरा : IUCN:

IUCN की एक नई ‘रेड लिस्ट’ के अनुसार, 2014 से दुनिया की शार्क और रे (rays) की आबादी में गिरावट देखी जा रही है और अब उनके विलुप्त होने का खतरा है।

मुख्य बिंदु

  • घटती प्रजातियों की रक्षा के उद्देश्य से वैश्विक सम्मेलन में IUCN द्वारा नई ‘रेड लिस्ट जारी की गई।
  • दुनिया भर में लगभग 37% शार्क और ‘रे’ को 2021 तक संकटग्रस्त माना जाता है। 2014 में, यह संख्या 33% थी।
  • यह प्रवृत्ति ज्यादा मछली के शिकार, आवास की हानि और जलवायु परिवर्तन का परिणाम थी।
  • 1970 के बाद से समुद्री शार्क की आबादी में भी 71% की कमी आई है।

IUCN रेड लिस्ट यूनिट

IUCN की रेड लिस्ट में हर साल सैकड़ों प्रजातियों का पुनर्मूल्यांकन किया जाता है। जिन 1,38,000 प्रजातियों को ट्रैक किया गया था, उनमें से 38,000 से अधिक के विलुप्त होने का खतरा है।

घटती पक्षी आबादी

शिकारी प्रजातियों के आधे से अधिक पक्षी दुनिया भर में आबादी में कमी का सामना कर रहे हैं। 18 प्रजातियां गंभीर रूप से संकटग्रस्त हैं। गर्म तापमान और बर्फ पिघलने के एम्परर पेंगुइन कॉलोनियां  2050 तक 70% और 2100 तक 98% कम हो जाएँगी।

प्रकृति के संरक्षण के लिए अंतर्राष्ट्रीय संघ (International Union for Conservation of Nature – IUCN)

IUCN एक  अंतर्राष्ट्रीय संगठन है जो प्रकृति संरक्षण और प्राकृतिक संसाधनों के सतत उपयोग के क्षेत्र में काम करता है। यह डेटा एकत्र करने और विश्लेषण, क्षेत्र परियोजना अनुसंधान, वकालत, क्षेत्र परियोजनाओं और शिक्षा में शामिल है। इसकी स्थापना 1948 में हुई थी।

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments