5 अक्टूबर को राष्ट्रीय डॉल्फिन दिवस (National Dolphin Day) मनाया जाएगा

5 अक्टूबर को केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय द्वारा राष्ट्रीय डॉल्फिन दिवस (National Dolphin Day) के रूप में नामित किया गया है और यह इस वर्ष से शुरू होकर प्रतिवर्ष मनाया जाएगा।

मुख्य बिंदु

  • National Board for Wildlife (NBWL) की स्थायी समिति ने 5 अक्टूबर को राष्ट्रीय डॉल्फिन दिवस के रूप में नामित करने का यह निर्णय लिया।
  • यह दिन जागरूकता पैदा करने पर केंद्रित होगा क्योंकि यह गंगा डॉल्फिन सहित डॉल्फिन संरक्षण का एक अभिन्न अंग है।
  • इस दिन डॉल्फ़िन के संरक्षण के लिए लोगों की भागीदारी पर भी ध्यान दिया जाएगा।
  • गंगा और उसकी सहायक नदियों के पानी की गुणवत्ता और प्रवाह में सुधार पर भी ध्यान दिया जाएगा ताकि गंगा डॉल्फ़िन जीवित रह सकें।

डॉल्फ़िन का महत्व

डॉल्फ़िन एक स्वस्थ जलीय पारिस्थितिकी तंत्र (aquatic ecosystem) के एक आदर्श संकेतक (indicator) के रूप में कार्य करती हैं, इस प्रकार डॉल्फ़िन का संरक्षण अत्यंत महत्वपूर्ण है। ऐसा करने से न केवल प्रजातियों के अस्तित्व को लाभ होगा बल्कि उन लोगों को भी मदद मिलेगी जो अपनी दैनिक आजीविका के लिए जलीय प्रणाली पर निर्भर हैं।

गंगा डॉल्फिन (Gangetic Dolphins)

गंगा डॉल्फिन एक संकेतक प्रजाति के रूप में कार्य करती है। इस प्रजाति की स्थिति पारिस्थितिकी तंत्र की समग्र स्थिति के साथ-साथ उस पारिस्थितिकी तंत्र में मौजूद अन्य प्रजातियों से संबंधित जानकारी प्रदान करती है। International Union for the Conservation of Nature Red List के तहत गंगा  डॉल्फिन को लुप्तप्राय प्रजातियों के रूप में वर्गीकृत किया गया है। 2012 और 2015 में, उत्तर प्रदेश वन विभाग ने WWF-इंडिया के साथ गंगा, चंबल, यमुना, बेतवा, केन, शारदा, सोन, गहागरा, गेरुवा, राप्ती और गंडक में 1,272 डॉल्फ़िन दर्ज की।

गंगा की डॉल्फ़िन को पानी के डायवर्जन, प्रदूषण, आवास विखंडन आदि के कारण खतरा है।

Categories:

Tags: , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments