Co-WIN पंजीकरण के लिए अब UDID ​​कार्ड का इस्तेमाल किया जा सकेगा

केंद्र सरकार ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से Co-WIN 2.0 प्लेटफॉर्म पर पंजीकरण करते समय UDID (Unique Disability Identification) कार्ड को पहचान प्रमाण के रूप में शामिल करने को कहा है। यह एक सुचारू और प्रभावी कोविड -19 टीकाकरण अभियान सुनिश्चित करेगा।

UDID ​​की अनुमति क्यों दी गई?

दिव्यांग व्यक्तियों को कोविड-19 टीकाकरण तक पहुँचने में मदद करने के उद्देश्य से UDID ​​​​को अनुमति दी गई थी। इससे पहले, Co-WIN 2.0 के दिशा-निर्देशों के अनुसार, टीकाकरण के लिए लाभार्थियों के सत्यापन के लिए सात निर्धारित फोटो आईडी निर्धारित किए गए थे। इसके अलावा, यह कार्ड सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय के तहत दिव्यांग व्यक्तियों के अधिकारिता विभाग द्वारा दिव्यांग व्यक्तियों को जारी किया जाता है, जिसमें नाम, जन्म का वर्ष, लिंग और फोटो जैसी विशेषताएं शामिल होती हैं। यह कोविड -19 टीकाकरण में पहचान के उपयोग के मानदंडों को पूरा करता है।

Unique Disability Identification (UDID)

UDID परियोजना को दिव्यांग व्यक्तियों (Persons with Disabilities – PwDs) के लिए एक राष्ट्रीय डेटाबेस बनाने के लिए लागू किया गया था। यह प्रत्येक PwD को एक विशिष्ट पहचान पत्र जारी करता है। यह PwD को सरकारी लाभ पहुंचाने में पारदर्शिता, दक्षता और आसानी को प्रोत्साहित करता है। यह ग्राम स्तर, ब्लॉक स्तर, जिला स्तर, राज्य स्तर और कार्यान्वयन के राष्ट्रीय स्तर पर लाभार्थियों की शारीरिक और वित्तीय प्रगति की एकरूपता और स्ट्रीम-लाइन ट्रैकिंग भी सुनिश्चित करता है।

Categories:

Tags: , , , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments