COVID-19 उपचार से प्लाज्मा थेरेपी (Plasma Therapy) को हटाया गया

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (Indian Council of Medical Research) ने हाल ही में प्लाज्मा थेरेपी को COVID-19 उपचार से हटा दिया है। इस प्रक्रिया के अप्रभावी पाए जाने पर यह निर्णय लिया गया है।

प्लाज्मा थेरेपी (Plasma Therapy)

  • इस थेरेपी में, एक COVID-19 से रिकवर हुए रोगी से प्लाज्मा नामक रक्त घटक को COVID-19 संक्रमित रोगी में इंजेक्ट किया जाता है।प्लाज्मा एंटीबॉडी का एक समृद्ध स्रोत है। एंटीबॉडी प्रोटीन होते हैं जो हमलावर वायरस से लड़ते हैं।
  • इसमें सामान्य रक्त संग्रह प्रथाएं (normal blood collection practices) शामिल हैं। बाद में रक्त के विभाजन की प्रक्रिया का उपयोग करके रक्त से प्लाज्मा निकाला जाता है। इसके अलावा, एफेरेसिस (Aphaeresis) नामक मशीन का उपयोग डोनर से प्लाज्मा निकालने के लिए किया जाता है।
  • पहले इसका इस्तेमाल H1N1 इन्फ्लुएंजा के प्रकोप और इबोला के प्रकोप के दौरान किया गया था।

PLACID ट्रायल

सितंबर 2020 में, ICMR ने PLACID परीक्षण किए। इन परीक्षणों के अनुसार, चिकित्सा ने न तो मौतों की संख्या को कम किया और न ही इसकी प्रगति को रोका।

अन्य देश

चीन और नीदरलैंड ने भी बताया है कि प्लाज्मा थेरेपी COVID-19 उपचार के लिए प्रभावी नहीं है।

प्लाज्मा थेरेपी अप्रभावी क्यों है?

एंटीबॉडी की कृत्रिम आपूर्ति संक्रमण को बदतर बना देती है। यह Antibody-Dependent Enhancemen नामक एक घटना के कारण होता है प्लाज्मा थेरेपी में, कृत्रिम रूप से आपूर्ति की जाने वाली एंटीबॉडी वायरस से जुड़ जाती हैं। इन एंटीबॉडी को तब कोशिका द्वारा लिया जा सकता है। इस तरह, वायरस मानव कोशिकाओं में प्रवेश करता है।

दूसरी ओर, टीकाकरण के दौरान प्रतिरक्षा प्रणाली अपने स्वयं के एंटीबॉडी का उत्पादन करती है। इस प्रकार, टीकाकरण आजीवन प्रतिरक्षा प्रदान करता है।

साथ ही, एक और बड़ी कमी यह है कि कृत्रिम रूप से इंजेक्ट किए गए ये एंटीबॉडी मरीज के शरीर में केवल तीन से चार दिनों तक ही रहते हैं।

Categories:

Tags: , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments