COVID-19: Zydus Cadila को तीसरे चरण के नैदानिक ​​परीक्षण के लिए DCGI से मंज़ूरी मिली

भारत की फार्मास्यूटिकल कंपनी जायडस कैडिला को हाल ही में DGCI (Drugs Controller General of India) से तीसरे चरण के नैदानिक परीक्षण के लिए मंज़ूरी मिल गयी है। यह मंज़ूरी बायोलॉजिकल थेरेपी Pegylated Interferon Alpha-2b (PegiHep) के साथ दी गयी है।

मुख्य बिंदु

PegiHep एक अनुमोदित दवा है और इसका इस्तेमाल कोविड-19 के उपचार के लिए किया जा रहा है। इस महीने के दौरान भारत के 25 केंद्रों में 250 रोगियों पर परीक्षण किया जाएगा। इस कंपनी ने पिछले महीने चरण-2 नैदानिक ​​परीक्षण पूरा किया था। दूसरे चरण के परीक्षणों ने संकेत दिया था कि इस जैविक दवा ने मध्यम कोविड-19 रोग से पीड़ित रोगी पर लाभकारी प्रभाव पड़ा।
इसके अलावा, जायडस ने कोविड-19 के लिए अपने वैक्सीन उम्मीदवार ZyCov-D के चरण-II मानव नैदानिक ​​परीक्षणों को भी पूरा कर लिया है और इसके परिणामों का वर्तमान में विश्लेषण किया गया है।

जायडस कैडिला

जायडस कैडिला एक भारतीय फार्मास्यूटिकल कंपनी है, इसका मुख्यालय गुजरात के अहमदाबाद में है। यह कंपनी जेनेरिक दवाओं का निर्माण करती है। इस कंपनी की स्थापना 1952 में रमनभाई पटेल ने की थी। 2019 में इस कंपनी का राजस्व एक अरब डॉलर से भी अधिक था। यह कंपनी विभिन्न प्रकार की दवाओं, हर्बल उत्पादों, स्किन केयर प्रोडक्ट्स इत्यादि का निर्माण करती है।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments