Covishield डोज इंटरवल को बढ़ाया जायेगा

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोविशिल्ड की पहली और दूसरी खुराक के बीच अंतराल को आठ सप्ताह तक बढ़ाने का फैसला किया है।

मुख्य बिंदु

यह निर्णय AZD122 के वैश्विक परीक्षणों के आंकड़ों के बाद लिया गया था, जो दर्शाता है कि खुराक की अवधि को 12 सप्ताह तक बढ़ाने से इसकी प्रभावकारिता में बहुत अधिक वृद्धि हुई है। जबकि अमेरिका, चिली और पेरू में परीक्षणों के बाद अंतरिम निष्कर्षों ने बताया कि टीके की पहली खुराक के चार सप्ताह बाद भी वैक्सीन की दूसरी खुराक देने पर 79 प्रतिशत की प्रभावकारिता थी।

विशेषज्ञ क्या सलाह देते हैं?

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने दो विशेषज्ञ समूहों की सिफारिश पर खुराक अंतराल बढ़ाने का फैसला किया है, यह समूह हैं : टीकाकरण पर राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह (NTAGI) और National Expert Group on Vaccine Administration for Covid-19 (NEGVAC)। इन समूहों ने कोविशिल्ड वैक्सीन के नैदानिक ​​परीक्षणों से वैज्ञानिक सबूतों की जांच की और निष्कर्ष निकाला कि वैक्सीन द्वारा प्रदान की गई सुरक्षा को बढ़ाया जाता है यदि दूसरी खुराक 6-8 सप्ताह के बीच प्रशासित की जाती है।

अन्य देशों से रिपोर्ट

अन्य देशों से AZD1222 वैक्सीन के परीक्षणों पर रिपोर्ट यह भी कहती है कि, जब पहली खुराक के छह सप्ताह के बाद इसकी दूसरी खुराक दी गई तो वैक्सीन की प्रभावकारिता बढ़ गई थी। वैक्सीन AZD1222 की प्रभावकारिता लगभग 54.9 प्रतिशत थी जब दूसरी खुराक ब्राजील, ब्रिटेन और दक्षिण अफ्रीका में चरण 3 नैदानिक ​​परीक्षण के दौरान छह सप्ताह से कम समय के अंतराल पर दी गई थी। इस रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि, टीके की प्रभावकारिता बढ़कर 59.9 प्रतिशत हो गई, जब इसकी पहली खुराक के 6-8 सप्ताह बाद इसकी दूसरी खुराक दी गई थी। 9-11 सप्ताह के अंतराल के बाद जब दूसरी खुराक दी गई, तो यह बढ़कर 63.7 प्रतिशत हो गई, जब अंतराल बढ़कर 12 सप्ताह या उससे अधिक किया गया तो प्रभावकारिता 82.4 प्रतिशत हो गई ।

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments