DCGI ने आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण के लिए ZyCoV-D वैक्सीन को मंजूरी दी

ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DGCI) ने Zydus Cadila द्वारा आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण के लिए ZyCoV-D वैक्सीन को मंजूरी दे दी है।

मुख्य बिंदु

  • विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय के अनुसार, ZyCoV-D वैक्सीन COVID-19 के लिए दुनिया की पहली और भारत की स्वदेशी रूप से विकसित डीएनए-आधारित वैक्सीन है।
  • यह 12 साल और उससे अधिक उम्र के बच्चों और वयस्कों को लगाया जाएगा।

ZyCoV-D का विकास किसने किया?

Zydus Cadila ने इस वैक्सीन को मिशन COVID सुरक्षा के तहत जैव प्रौद्योगिकी विभाग के साथ साझेदारी में विकसित किया है। इसे Biotechnology Industry Research Assistance Council (BIRAC) द्वारा लागू किया जाएगा।

ZyCoV-D 

यह एक तीन-खुराक वाला डीएनए प्लास्मिड-आधारित COVID-19 वैक्सीन है। जब इसे शरीर में इंजेक्ट किया जाता है, तो यह SARS-CoV-2 वायरस के स्पाइक प्रोटीन का उत्पादन करता है और एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया उत्पन्न करता है। इस प्रकार, यह रोग और वायरल निकासी से सुरक्षा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

क्या वैक्सीन म्यूटेशन से निपट सकती है?

वैक्सीन का प्लास्मिड डीएनए प्लेटफॉर्म प्लग-एंड-प्ले तकनीक पर आधारित है। इसे वायरस के बीच उत्परिवर्तन (mutation) से निपटने के लिए आसानी से अनुकूलित किया जा सकता है।

वैक्सीन की प्रभावकारिता

वैक्सीन के लिए फेज-3 क्लिनिकल परीक्षण 28,000 से अधिक स्वयंसेवकों में किया गया था। परिणाम ने रोगसूचक RT-PCR सकारात्मक मामलों में 66.6% की प्राथमिक प्रभावकारिता दिखाई है। COVID-19 के लिए भारत में यह अब तक का सबसे बड़ा वैक्सीन परीक्षण था। 

Zydus Cadila (जायडस कैडिला)

Zydus Cadila को Cadila Healthcare Limited के नाम से भी जाना जाता है। यह एक भारतीय बहुराष्ट्रीय दवा कंपनी है जिसका मुख्यालय अहमदाबाद, गुजरात में है। यह कंपनी मुख्य रूप से जेनेरिक दवाओं के निर्माण का काम करती है। रमनभाई पटेल ने 1952 में इस कंपनी की स्थापना की थी।

Categories:

Tags: , , , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments