FATF की ‘ग्रे लिस्ट’ में पाकिस्तान को बरकरार रखा गया

ग्लोबल एंटी-टेररिस्ट वॉचडॉग फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) ने 25 फरवरी, 2021 को पाकिस्तान को जून 2021 तक ग्रे लिस्ट में बनाए रखने का फैसला किया है।

मुख्य बिंदु

  • FATF द्वारा यह निर्णय आतंकवाद का मुकाबला करने के लिए 27-सूत्रीय कार्ययोजना का पूरी तरह से पालन करने में देश की विफलता के मद्देनजर लिया गया था।
  • यह निर्णय एक वर्चुअल सत्र के बाद लिया गया था।
  • FATF ने पाकिस्तान को ‘ग्रे लिस्ट’ में रखने का फैसला किया है।
  • हालांकि, पाकिस्तान ने कई कदम उठाए हैं, लेकिन उसे 27 कार्रवाई बिंदुओं में से तीन महत्वपूर्ण बिंदुओं पर कार्रवाई करने की आवश्यकता है।

FATF ने क्या कहा?

FATF ने कहा कि, पाकिस्तान को 27 बिन्दुओं में से शेष तीन बिन्दुओं को लागू करने पर काम करने की आवश्यकता है:

  1. इसे नामित व्यक्तियों या संस्थाओं की ओर से कार्य करने वाले व्यक्तियों और संस्थाओं को लक्षित करते हुए आतंकीफंडिंग जांच और अभियोगों को प्रदर्शित करने की आवश्यकता है।
  2. यह प्रदर्शित करने की आवश्यकता है कि आतंकी फंडिंग के मुकदमों के परिणामस्वरूप प्रभावी प्रतिबंध लगाये गये हैं।
  3. इसे संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव 1267 और 1373 में नामित आतंकवादियों के खिलाफ लक्षित वित्तीय प्रतिबंधों के प्रभावी कार्यान्वयन का प्रदर्शन करने की आवश्यकता है।

पृष्ठभूमि

FATF ने अक्टूबर, 2020 में पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में रखा था और तय किया था कि FATF विश्व बैंक, एशियाई विकास बैंक, अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष और यूरोपीय संघ से पाकिस्तान को सहायता प्राप्त करने की अनुमति नहीं देगा। भारत ने एफएटीएफ का सदस्य होने के नाते पाकिस्तान को बार-बार वित्तीय अपराधों को रोकने के लिए अंतरराष्ट्रीय मानकों का पालन करने के लिए आवश्यक कदम उठाने के लिए कहा है।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का प्रस्ताव 1267

यह संकल्प 15 अक्टूबर, 1999 को अपनाया गया था। इस संकल्प के तहत, परिषद ने ओसामा बिन लादेन और सहयोगियों को आतंकवादी के रूप में घोषित किया था।

Categories:

Tags: , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments