FATF ने तुर्की को ग्रे लिस्ट में जोड़ा; पाकिस्तान को बरकरार रखा

ग्लोबल टेरर फाइनेंसिंग वॉचडॉग, फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) ने पाकिस्तान को ‘ग्रे लिस्ट ऑफ कंट्रीज’ में बरकरार रखा है।

मुख्य बिंदु

  • इस बार, वॉचडॉग ने तीन नए देशों अर्थात् तुर्की, जॉर्डन और माली को ग्रे लिस्ट में जोड़ा है।
  • FATF के अनुसार, पाकिस्तान को ब्लैकलिस्ट करने का कोई सवाल ही नहीं था क्योंकि पाकिस्तान सहयोग कर रहा है और केवल चार एक्शन आइटम पूरे किए जाने बाकी हैं।
  • FATF ने पाकिस्तान से हाफिज सईद और मसूद अजहर जैसे संयुक्त राष्ट्र द्वारा नामित आतंकवादी आतंकवादियों की जांच और मुकदमा चलाने के लिए कहा है।
  • इसने पाकिस्तान से अपनी रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण कमियों को दूर करने के लिए भी कहा है।

पृष्ठभूमि

FATF ने जून, 2021 में पाकिस्तान को अपनी ‘ग्रे लिस्ट’ में बनाए रखा था क्योंकि वह मनी लॉन्ड्रिंग की जांच करने में विफल रहा, जिससे आतंकी वित्तपोषण हुआ। पाकिस्तान को पहली बार जून, 2018 में ग्रे लिस्ट में रखा गया था। तब से, यह इस सूची में बना हुआ है क्योंकि यह FATF के जनादेश का पालन करने में विफल रहता है।

सूची में शामिल करने का क्या अर्थ है?

ग्रे लिस्ट में आने के साथ, पाकिस्तान के लिए विश्व बैंक, अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF), यूरोपीय संघ और एशियाई विकास बैंक (ADB) जैसे किसी भी अंतर्राष्ट्रीय संस्थान से वित्तीय सहायता प्राप्त करना कठिन हो गया है।

फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF)

FATF एक अंतरसरकारी संगठन है। इसकी स्थापना वर्ष 1989 में मनी लॉन्ड्रिंग से निपटने के लिए नीतियों को विकसित करने के लिए G7 समूह की पहल के बाद की गई थी। आतंकवाद के वित्तपोषण को शामिल करने के लिए वर्ष 2001 में FATF जनादेश का विस्तार किया गया था।

FATF के उद्देश्य

FATF के प्रमुख उद्देश्यों में शामिल हैं:

  1. आतंकवादी वित्तपोषण, मनी लॉन्ड्रिंग और अन्य संबंधित खतरों से निपटने के लिए मानक निर्धारित करना और नियामक, कानूनी और परिचालन उपायों के प्रभावी कार्यान्वयन को बढ़ावा देना।
  2. इन क्षेत्रों में राष्ट्रीय विधायी और नियामक सुधार लाने के लिए आवश्यक राजनीतिक इच्छाशक्ति पैदा करना।

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments