Greater Male Connectivity Project : मालदीव में पुल का निर्माण करेगा AFCONS

भारतीय कंपनी AFCONS ने 26 अगस्त, 2021 को मालदीव में अब तक की सबसे बड़ी बुनियादी ढांचा परियोजना के लिए एक अनुबंध पर हस्ताक्षर किए।

प्रमुख बिंदु

  • इस परियोजना को Greater Male Connectivity Project (GMCP) के रूप में करार दिया गया है ।
  • इसमें एक 6.74 किमी लंबा पुल और माले तथा विलिंगली, थिलाफुशी और गुल्हिफाल्हू के द्वीपों के बीच सेतु लिंक शामिल होगा।
  • इस परियोजना को भारतीय निर्माण कंपनी AFCONS द्वारा पूरा किया जाएगा।

ग्रेटर माले कनेक्टिविटी प्रोजेक्ट के लिए अनुबंध  पर राष्ट्रीय योजना, आवास और अवसंरचना मंत्रालय और AFCONS इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड के बीच हस्ताक्षर किए गए हैं।

परियोजना के लिए अनुदान

भारत ने इस परियोजना को निधि देने के लिए $100 मिलियन का अनुदान और $400 मिलियन की ऋण सहायता प्रदान की है।

Greater Male Connectivity Project (GMCP)

GCMP प्रोजेक्ट चीनी सहायता से बनाए गए सिनामाले ब्रिज से भी बड़ी परियोजना है। सिनामाले ब्रिज माले को हुलहुमले और हुलहुले से जोड़ता है और इसे वर्ष 2018 में पूरा किया गया था। GCMP परियोजना का लक्ष्य चार द्वीपों को जोड़ना है जो मालदीव की आबादी का आधा हिस्सा हैं। यह मालदीव के परिवहन और आर्थिक गतिविधियों में गतिशीलता जोड़ेगा। यह माले को गुल्हिफाल्हू के नियोजित अंतरराष्ट्रीय बंदरगाह और थिलाफुशी में एक औद्योगिक क्षेत्र से जोड़ेगा। यह परियोजना अक्षय ऊर्जा का उपयोग करेगी और प्रकाश के प्रयोजनों के लिए सौर ऊर्जा का उपयोग करेगी। GCMP परियोजना में शामिल हैं:

  1. चार द्वीपों के बीच एक गहरे चैनल में फैले हुए 140 मीटर के तीन नेविगेशन पुल
  2. छिछले पानी में या जमीन पर 32 कि.मी. का समुद्री पुल
  3. 96 कि.मी. सड़क 

पृष्ठभूमि

भारत और मालदीव के बीच द्विपक्षीय परामर्श के बाद GCMPपी परियोजना के लिए अनुबंध पर हस्ताक्षर किए गए। सितंबर 2019 में भारत के विदेश मंत्री की माले यात्रा के बाद से यह चर्चा में था।

Categories:

Tags: , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments