ICRA ने वित्त वर्ष 22 के GDP विकास पूर्वानुमान को 9% तक संशोधित किया

रेटिंग एजेंसी ICRA ने वित्तीय वर्ष 2022 के लिए भारत के लिए अपने वास्तविक GDP विकास पूर्वानुमान को संशोधित किया है। इसका GDP अनुमान 8.5% से बदलकर 9% कर दिया गया है।

मुख्य बिंदु 

  • ICRA ने GDP में वृद्धि का श्रेय वित्त वर्ष 22 की दूसरी तिमाही के लिए उज्ज्वल संभावनाओं को दिया, जो तेजी से कोविड -19 टीकाकरण, खरीफ उत्पादन के स्वस्थ अग्रिम अनुमानों के साथ-साथ संबंधित नकदी प्रबंधन उपायों को आसान बनाने के परिणामस्वरूप संभव हुआ है।
  • वित्त वर्ष 2022 की दूसरी और तीसरी तिमाही में कृषि, वानिकी और मछली पकड़ने में GVA वृद्धि के पूर्वानुमान को संशोधित कर 3% (2% से) कर दिया गया है।

टीकाकरण का प्रभाव

ICRA के अनुसार, कोविड-19 टीकों की व्यापक कवरेज से आत्मविश्वास बढ़ेगा, जो बदले में, संपर्क-गहन सेवाओं की मांग को फिर से सक्रिय करेगा। यह कोविड-19 महामारी से सबसे अधिक प्रभावित अर्थव्यवस्था के हिस्से को पुनर्जीवित करने में मदद करेगा। ICRA के अनुमान के अनुसार, लगभग तीन-चौथाई भारतीय वयस्कों को 2021 के अंत तक अपना दूसरा कोविड -19 टीका प्राप्त होगा।

खरीफ उत्पादन

ICRA के अनुसार, खरीफ की मजबूत फसल कृषि क्षेत्र की खपत की मांग को बनाए रखेगी। देर से बुवाई से खरीफ का रकबा 2021 के रिकॉर्ड क्षेत्र के बराबर लाने में मदद मिली है।

राष्ट्रीय मुद्रीकरण पाइपलाइन (National Monetisation Pipeline)

प्रत्यक्ष कर राजस्व में वृद्धि और ‘राष्ट्रीय मुद्रीकरण पाइपलाइन’ से आमद शुरू होने से भी केंद्र सरकार के लिए राजस्व दृश्यता में सुधार हुआ है। इससे वित्त वर्ष 2022 की दूसरी छमाही में केंद्र सरकार के खर्च में तेजी आनी चाहिए।

ICRA लिमिटेड 

इस भारतीय स्वतंत्र निवेश सूचना और क्रेडिट रेटिंग एजेंसी की स्थापना 1991 में हुई थी। इसका मूल नाम Investment Information and Credit Rating Agency of India Limited (IICRA India) था। यह मूडीज और कई भारतीय वाणिज्यिक बैंकों और वित्तीय सेवा कंपनियों का एक संयुक्त उद्यम था।

Categories:

Tags: , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments