IMF ने ‘रिकोशे इम्पैक्ट’ (Ricochet Impact) के लिए दी चेतावनी, जानिए क्या है Ricochet Impact

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) के अनुसार, उभरते-बाजार देशों के कोविड-19 महामारी से प्रेरित आर्थिक संकट से बाहर निकलने का संघर्ष विकसित देशों को नुकसान पहुंचा सकता है। इसने कहा, विकसित और उन्नत अर्थव्यवस्थाओं पर संकट का “रिकोशे प्रभाव” (Ricochet Impact) है।

मुख्य बिंदु

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष का सुझाव है कि, विकसित देशों को टीकों की बेहतर और न्यायसंगत पहुंच और न्यायसंगत रिकवरी सुनिश्चित करने के लिए सभी प्रयास करने चाहिए। गरीब देशों को ब्याज दरों में वृद्धि के जोखिम का सामना करना पड़ रहा है, भले ही उनकी अर्थव्यवस्थाएं नहीं बढ़ रही हैं। रिकोशे का अर्थ है सतह से टकराकर दिशा बदलना। इसका अर्थ है कि इस आर्थिक संकट का प्रभाव सबसे ज्यादा देशों के साथ-साथ दूसरे देशों पर भी पड़ सकता है।

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF)

इस अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय संस्थान का मुख्यालय वाशिंगटन, डीसी में है, इसमें 190 देश शामिल हैं। वे वैश्विक मौद्रिक सहयोग को बढ़ावा देने, वित्तीय स्थिरता को सुरक्षित करने, उच्च रोजगार को बढ़ावा देने, अंतर्राष्ट्रीय व्यापार की सुविधा और सतत आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए मिलकर काम करते हैं। यह दुनिया भर में गरीबी को कम करने के उपाय भी करता है। यह 1944 में स्थापित किया गया था लेकिन ब्रेटन वुड्स सम्मेलन में 1945 में काम करना शुरू कर दिया। IMF भुगतान संतुलन के मुद्दों और अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय संकटों के प्रबंधन में एक महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments