International Monetary Fund ने World Economic Outlook जारी किया

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (International Monetary Fund) ने हाल ही में विश्व आर्थिक आउटलुक (World Economic Outlook) जारी किया, इस का शीर्षक “Managing Divergent Recoveries” जारी किया।

रिपोर्ट के मुख्य बिंदु

  • इस रिपोर्ट में चालू वित्त वर्ष 2022 के लिए भारत की जीडीपी वृद्धि का अनुमान 5% रखा गया ​​है। यह जनवरी 2021 में 11.5% के पिछले अनुमान की तुलना में 1% अधिक है। यह उभरती हुई अर्थव्यवस्थाओं और उन्नत अर्थव्यवस्थाओं के कुलीन समूह के बीच सबसे अधिक है।
  • साथ ही, वर्ष 2023 के लिए भारत का विकास अनुमान 8% से बढ़कर 6.9% हो गया है। इससे पहले IMF ने भारत की विकास दर 6.8% रहने की भविष्यवाणी की थी।
  • वैश्विक अर्थव्यवस्था 2021 में 6% की दर से बढ़ेगी है और इसके 2022 में 4% तक बढ़ने की उम्मीद है। 2020 में, वैश्विक अर्थव्यवस्था 3.3% संकुचित हुई है।
  • इस रिपोर्ट के अनुसार, चीन 2020 में प्री-कोविड ​​जीडीपी में लौट आया है। हालांकि, कई अन्य के 2023 तक इस स्तर तक लौटने की उम्मीद नहीं है।
  • COVID-19 के कारण होटल और रेस्तरां क्षेत्र को भारी उत्पादन और रोजगार का नुकसान हुआ है।
  • इस रिपोर्ट के अनुसार उत्तरी अमेरिका, भारत और चीन में अच्छी रिकवरी की उम्मीद है।
  • यूके और अमेरिका वैक्सीन के मोर्चे पर बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं।दूसरी ओर, एशिया वैक्सीन रोल-आउट पर पिछड़ रहा है।
  • पर्यटन पर निर्भर अर्थव्यवस्थाओं को भारी नुकसान पहुंचा है।

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (International Monetary Fund – IMF)

आईएमएफ की स्थापना द्वितीय विश्व युद्ध के बाद युद्धग्रस्त देशों के पुनर्निर्माण में सहायता के लिए की गई थी। यह 1945 में बनाया गया था। यह 189 देशों द्वारा नियंत्रित है। भारत 1945 में IMF में शामिल हो गया था। विश्व आर्थिक आउटलुक के अलावा, IMF वैश्विक वित्तीय स्थिरता रिपोर्ट भी जारी करता है।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments