ISRO ने Inflatable Aerodynamic Decelerator का परीक्षण किया

हाल ही में, भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने Inflatable Aerodynamic Decelerator (IAD) टेक्नोलॉजी का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है जो इस्तेमाल किए गए रॉकेट चरणों और भूमि पेलोड की लागत प्रभावी रिकवरी में सहायता कर सकती है।

Inflatable Aerodynamic Decelerator (IAD)

  • Inflatable Aerodynamic Decelerator को विक्रम साराभाई स्पेस सेंटर (VSSC) द्वारा डिजाइन और विकसित किया गया है।
  • IAD तकनीक का परीक्षण साउंडिंग रॉकेट रोहिणी-300 (RH300 Mk II) से किया गया है। रोहिणी साउंडिंग राकेटों का प्रयोग नियमित रूप से भारत और विदेशों के वैज्ञानिकों द्वारा उड़ान प्रदर्शनों के लिए किया जाता है।
  • लॉन्च के समय, IAD को ‘पेलोड बे’ के अंदर मोड़ा गया था और जैसे ही यह लगभग 84 किमी की ऊंचाई पर पहुंचा, IAD को खोला गया और रॉकेट के पेलोड हिस्से में फुलाया गया। जिससे पेलोड का वेग प्रभावित हुआ और रॉकेट की गति कम हो गई।
  • IAD में विभिन्न प्रकार के अंतरिक्ष अनुप्रयोगों जैसे रॉकेट के इस्तेमाल किए गए चरणों की रिकवरी, मंगल या शुक्र पर पेलोड लैंडिंग के लिए और मानव अंतरिक्ष उड़ान मिशनों के लिए अंतरिक्ष आवास बनाने में भारी संभावनाएं हैं।
  • IAD भविष्य के कई अंतरिक्ष मिशनों के लिए गेम चेंजर साबित हो सकता है। इस तकनीक से रॉकेट की गति को भी धीमा किया जा सकता है, जिससे वैज्ञानिक रॉकेट की गति को नियंत्रित कर सकेंगे।

इसरो (ISRO)

ISRO भारत सरकार के अंतरिक्ष विभाग के अधीन अंतरिक्ष एजेंसी है। इसका गठन 1969 में किया गया था। इसरो ने अपने पूर्ववर्ती, INCOSPAR (अंतरिक्ष अनुसंधान के लिए भारतीय राष्ट्रीय समिति) की जगह ली, जिसे 1962 में स्थापित किया गया था। इसरो के वर्तमान अध्यक्ष एस सोमनाथ हैं।

Categories:

Tags: , , , ,

« »

Advertisement

Comments