MIT ने कार्बन नैनोट्यूब से बिजली उत्पन्न की

MIT (Massachusetts Institute of Technology) के इंजीनियरों ने कार्बन नैनोट्यूब का उपयोग करके बिजली पैदा करने का एक नया तरीका खोजा है। कार्बन नैनोट्यूब से बनी एक नई सामग्री में अपने पर्यावरण से ऊर्जा एकत्र करके बिजली पैदा करने की क्षमता है।

बिजली कैसे उत्पन्न होती है?

  • ये सूक्ष्म कार्बन कण अपने चारों ओर तरल के साथ क्रिया करके करंट बना सकते हैं।
  • तरल, एक कार्बनिक विलायक, नैनोकणों से इलेक्ट्रॉनों को आकर्षित करता है, जो करंट उत्पन्न करता है।
  • इस करंट का उपयोग रासायनिक प्रतिक्रियाओं को चलाने के लिए या सूक्ष्म या नैनोस्केल रोबोट को शक्ति देने के लिए किया जा सकता है।
  • इस विद्युत प्रवाह का उपयोग अल्कोहल ऑक्सीकरण के रूप में जानी जाने वाली प्रतिक्रिया को चलाने के लिए भी किया जा सकता है।

खोज के गुण

यह खोज कार्बन नैनोट्यूब पर शोध से आगे बढ़ी। कार्बन नैनोट्यूब खोखले ट्यूब होते हैं जो कार्बन परमाणुओं की जाली से बने होते हैं। इन ट्यूबों में अद्वितीय विद्युत गुण होते हैं। थर्मोपावर तरंगों को उत्पन्न करने के लिए कार्बन नैनोट्यूब की क्षमता को 2010 में बहुत पहले प्रदर्शित किया गया था। जब कार्बन नैनोट्यूब को ईंधन की परत के साथ लेपित किया जाता है, तो ट्यूब के साथ यात्रा करने वाली गर्मी या थर्मोपावर तरंगों की चलती पल्सेज विद्युत प्रवाह उत्पन्न करती हैं।

कार्बन नैनोट्यूब की विशेषता

जब कार्बन नैनोट्यूब का हिस्सा टेफ्लॉन जैसे पॉलीमर के साथ लेपित होता है, तो यह एक विषमता (asymmetry) पैदा करता है। इससे इलेक्ट्रॉनों के लिए ट्यूब के बिना लेपित वाले हिस्से में प्रवाहित होना संभव हो जाता है, जिससे विद्युत प्रवाह उत्पन्न होता है।

Categories:

Tags: , , , ,

« »

Advertisement

Comments