Naegleria Fowleri (Brain Eating Amoeba) क्या है?

हाल ही में Naegleria fowleri सुर्ख़ियों में रहा है, यह एकल कोशिका वाला अमीबा है। इसे मस्तिष्क खाने वाला अमीबा (Brain Eating Amoeba) भी कहा जाता है। यह अमीबा अमेरिका में तेजी से फैल रहा है। यह खबर आंध्र प्रदेश के जिलों में एलुरु नामक एक रहस्यमय बीमारी के बाद आई है।

Naegleria Fowleri क्या है?

Naegleria fowleri को पहली बार अमेरिका के दक्षिणी भागों में खोजा गया था। अनुकूल जलवायु परिस्थितियों के कारण उत्तरी भागों में इसके स्ट्रेन का तेजी से विकास हुआ। जैसा कि नाम से पता चलता है, यह अमीबा में शरीर के महत्वपूर्ण हिस्सों, विशेष रूप से मानव मस्तिष्क को नुकसान पहुंचाने और बड़े पैमाने पर सूजन पैदा करने में सक्षम है।

अमीबा आमतौर पर गर्म ताजे पानी में पाया जाता है। हालांकि, जलवायु परिवर्तन ने अमीबा को सर्दियों के दौरान भी फैलने में मदद की है। यह 36 डिग्री सेल्सियस पर तेजी से बढ़ता है।

अमीबा आमतौर पर नदियों और झीलों में पाया जाता है, इसके कारण Primary Amoebic Meningoencephalitis (PAM) नामक संक्रमण होता है  और यह घातक हो सकता है।

वर्तमान परिदृश्य

फिलहाल यह संक्रमण काफी दुर्लभ है। सेंटर ऑफ डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) के अनुसार पिछले 10 वर्षों केवल 30-40 मामलों का पता चला है। चूंकि अमीबा आसानी से पानी के माध्यम से फैलता है, यह अब तैराकी और गहरे पानी में गोता लगाने जैसे कार्यों के माध्यम से फैल रहा है।

यह मनुष्य को कैसे संक्रमित करता है?

अमीबा के मानव शरीर में प्रवेश करने के 24 घंटे बाद Primary Amoebic Meningoencephalitis (PAM) के लक्षण शुरू होते हैं। इस संक्रमण का सबसे आम प्रारंभिक लक्षण सिर दर्द है। इसके अलावा अन्य लक्षण उल्टी, बुखार, मतली, दौरे, चक्कर आना, गर्दन में अकड़न आदि हैं। यह अमीबा नाक के माध्यम से मानव शरीर में प्रवेश करता है और नाक से मस्तिष्क तक पहुंच जाता है, जहां यह मस्तिष्क के ऊतकों को खाना शुरू कर देता है।

इस अमीबा के बारे में अनोखा तथ्य यह है कि यदि यह अमीबा मुंह के माध्यम से शरीर में प्रवेश करता है तो यह मानव शरीर को नुकसान नहीं पहुंचाता है। इस प्रकार, एक व्यक्ति दूषित पानी पीने से Primary Amoebic Meningoencephalitis (PAM) से संक्रमित नहीं होता है।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments