NTPC ने 25 मेगावाट की फ्लोटिंग सोलर परियोजना लांच की

NTPC लिमिटेड ने विशाखापत्तनम में सबसे बड़ी फ्लोटिंग सोलर पीवी परियोजना लांच की। यह सिम्हाद्री थर्मल पावर स्टेशन (Simhadri Thermal Power Station) के जलाशय पर 25 मेगावाट की परियोजना है।

मुख्य बिंदु 

यह पहली सौर परियोजना है जिसे फ्लेक्सिबिलाइजेशन योजना (Flexibilisation Scheme) के तहत स्थापित किया गया था। इस योजना को केंद्र सरकार द्वारा 2018 में अधिसूचित किया गया था।

फ्लोटिंग सोलर पीवी प्रोजेक्ट (Floating Solar PV Project)

  • फ्लोटिंग सोलर प्रोजेक्ट में एक अद्वितीय एंकरिंग डिज़ाइन है।
  • इसका निर्माण 75 एकड़ के जलाशय के क्षेत्र में किया गया है।
  • इस परियोजना में 1 लाख से अधिक सौर पी.वी. मॉड्यूल से बिजली पैदा करने की क्षमता है।
  • सिम्हाद्री स्टेशन 2000MW कोयले से चलनेबिजली परियोजना है  जो 20 से अधिक वर्षों से चालू है।

परियोजना का महत्व

यह परियोजना इस मायने में महत्वपूर्ण है कि इससे लगभग 7,000 घरों में रोशनी करने में मदद मिलेगी। इस परियोजना के पूरे जीवनकाल के लिए हर साल कम से कम 46,000 टन CO2 में कमी होगी। इससे प्रति वर्ष 1,364 मिलियन लीटर पानी की बचत होगी जिसका उपयोग 6,700 घरों की वार्षिक पानी की जरूरतों को पूरा करने के लिए किया जा सकता है।

NTPC की अन्य परियोजनाएं

NTPC ने पायलट आधार पर सिम्हाद्री में हाइड्रोजन आधारित माइक्रो-ग्रिड प्रणाली स्थापित करने की भी योजना बनाई है। NTPC ऊर्जा पर संयुक्त राष्ट्र उच्च स्तरीय वार्ता (UN High-level Dialogue on Energy – HLDE) के तहत अपने ऊर्जा  लक्ष्यों की घोषणा करने वाली भारत की पहली ऊर्जा कंपनी भी बन गई है।

NTPC की क्षमता 

NTPC की कुल स्थापित क्षमता 66,900 मेगावाट है। इस समूह के पास 71 बिजलीघर हैं जिनमें 29 नवीकरणीय परियोजनाएं शामिल हैं। इसमें 2032 तक 60 गीगावाट नवीकरणीय ऊर्जा क्षमता स्थापित करने का एक निर्धारित लक्ष्य है। 5 गीगावाट अक्षय ऊर्जा परियोजनाओं सहित 17 गीगावाट से अधिक क्षमता निर्माणाधीन है।

Categories:

Tags: , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments