PMC Bank का अधिग्रहण करेगा Centrum

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने गैर-बैंक ऋणदाता Centrum Financial Services और फिनटेक स्टार्टअप भारतपे (BharatPe) के एक संघ द्वारा Punjab and Maharashtra Cooperatives Bank (PMC Bank) के अधिग्रहण के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी।

पृष्ठभूमि

यह निर्णय पंजाब और महाराष्ट्र सहकारी बैंक के पतन की पृष्ठभूमि में लिया गया था। 24 सितंबर, 2019 को जब नियामक ने इस पर कई सीमायें लगा दी थी। नियामक ने छह महीने के लिए नकद निकासी को जब्त कर लिया और इसकी लेखा चूक की जांच शुरू की। इसके बाद, Centrum Financial Services और BharatPe ने फरवरी 2021 में PMC बैंक का अधिग्रहण करने के एक संयुक्त प्रस्ताव प्रस्तुत किया था।

आरबीआई की मंजूरी

आरबीआई ने सेंट्रम को एक छोटा वित्त बैंक स्थापित करने के लिए सैद्धांतिक मंजूरी देने का फैसला किया है। इसे ऑन-टैप लाइसेंसिंग मानदंडों के तहत स्थापित किया जाएगा। ऑन-टैप लाइसेंसिंग का अर्थ है, जब नियामक कई वर्षों में एक बार के बजाय निरंतर आधार पर बैंक लाइसेंस देता है।

Centrum Financial Services

यह सूचीबद्ध इकाई सेंट्रम कैपिटल (Centrum Capital) की एक स्टेप-डाउन सहायक कंपनी है जो 2 लाख से 2 करोड़ रुपये की संपत्ति वाली छोटी और मध्यम आकार की कंपनियों को क्रेडिट प्रदान करती है।  भारतपे का संचालन करने वाली रेजिलिएंट इनोवेशन प्राइवेट लिमिटेड, लघु वित्त बैंक में भी एक समान भागीदार होगा।

पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक लिमिटेड (PMC)

PMC एक बहु-राज्य सहकारी बैंक है जिसे 1983 में स्थापित किया गया था। पूरे भारत में इसकी 137 शाखाएँ हैं जबकि लगभग 100 शाखाएँ महाराष्ट्र में हैं। यह भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा विनियमित है और सहकारी समिति अधिनियम के तहत पंजीकृत है।

Categories:

Tags: , , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments