PMFBY का समर्थन करने के लिए ड्रोन का उपयोग करेगा कृषि मंत्रालय

कृषि मंत्रालय को रिमोट सेंसिंग डेटा संग्रह के लिए प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (PMFBY) के तहत ड्रोन का उपयोग करने की अनुमति दी गई है।

मुख्य बिंदु

  • नागरिक उड्डयन मंत्रालय और नागरिक उड्डयन महानिदेशालय द्वारा रिमोटली पायलटिड एयरक्राफ्ट सिस्टम (RPAS) का उपयोग करने के लिए सशर्त अनुमति दी गई है।
  • RPAS का उपयोग कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय द्वारा 100 जिलों के कृषि क्षेत्रों में रिमोट सेंसिंग डेटा संग्रह के लिए किया जाएगा।
  • इसका उपयोग ग्राम पंचायत स्तर उपज अनुमान के लिए किया जाएगा।
  • यह सशर्त छूट जारी होने की तारीख के एक साल बाद तक या डिजिटल स्काई प्लेटफॉर्म के परिचालन तक मान्य होगी।
  • ड्रोन के उपयोग के लिए अभी भी स्थानीय प्रशासन से आवश्यक मंजूरी लेनी होगी।

कृषि में ड्रोन का उपयोग

ड्रोन कच्चे डेटा को एकत्र करते हैं और इसे उपयोगी जानकारी में अनुवादित करते हैं। ड्रोन का उपयोग कृषि में निम्नलिखित मापदंडों की निगरानी के लिए किया जा सकता है:

  1. यह फसल के स्वास्थ्य की निगरानी कर सकता है जैसे कीटों से होने वाले नुकसान और कीट संक्रमण के कारण फसलों के रंग में परिवर्तन।
  2. यह वनस्पति सूचकांकों जैसे कि विसंगति का पता लगाने, उपज, उपचार प्रभावकारिता और फेनोलॉजी पर जानकारी प्राप्त कर सकता है।
  3. यह पौधे की ऊंचाई और घनत्व की निगरानी कर सकता है।
  4. यह क्षेत्र के जल-तनावग्रस्त भागों या जल की आवश्यकता वाले बाग की पहचान कर सकता है।

मानवरहित हवाई वाहन (यूएवी)

यूएवी को ड्रोन या रिमोट पाइलेटेड एयरक्राफ्ट सिस्टम (RPAS) के रूप में भी जाना जाता है। यह एक विमान है जो बिना किसी मानव पायलट के चलता है। यह मानवरहित विमान प्रणाली (UAS) का एक घटक है। यूएवी की उड़ान मानव ऑपरेटर द्वारा रिमोट कंट्रोल के तहत या स्वायत्त रूप से ऑनबोर्ड कंप्यूटर द्वारा संचालित की जाती है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (PMFBY)

  • प्रमुख फसल बीमा योजना को 13 जनवरी, 2016 को केंद्र सरकार द्वारा अनुमोदित किया गया था।
  • यह योजना भारत में किसानों के लिए न्यूनतम प्रीमियम पर एक व्यापक जोखिम समाधान प्रदान करने के लिए शुरू की गई थी।
  • यह बुवाई से लेकर फसल कटाई के बाद तक के पूरे फसल चक्र के लिए कवरेज प्रदान करती है।
  • यह बुवाई और मध्य मौसम प्रतिकूलताओं के कारण होने वाले नुकसान के लिए भी कवरेज प्रदान करती है।
  • यह योजना किसान भागीदारी के संबंध में सबसे बड़ी फसल बीमा योजना बन गई है।
  • इस योजना में फसल बीमा एप्प, सामान्य सेवा केंद्र या निकटतम कृषि अधिकारी शामिल हैं। इस प्रकार, इसने किसान को किसी भी घटना के होने के 72 घंटों के भीतर फसल नुकसान की रिपोर्ट करने की प्रक्रिया को और सरल बना दिया है।
  • इसके अलावा, प्रधानमंत्री बीमा योजना पोर्टल, फसल बीमा मोबाइल एप्प के साथ भूमि रिकॉर्ड का एकीकरण किसानों के नामांकन के लिए आसान है।
  • योजना की अन्य प्रमुख विशेषताओं में रिमोट-सेंसिंग तकनीक, ड्रोन, सैटेलाइट इमेजरी, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग शामिल हैं।ये विशेषताएं इलेक्ट्रॉनिक रूप से फसल के नुकसान का आकलन करने में मदद करती हैं।

Categories:

Tags: , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments