Razorpay-Mastercard ने MandateHQ भुगतान इंटरफ़ेस लॉन्च किया

भुगतान समाधान प्रदाता रेजरपे (Razorpay) ने MandateHQ लॉन्च करने के लिए मास्टरकार्ड के साथ भागीदारी की है।

मुख्य बिंदु

  • MandateHQ एक भुगतान इंटरफ़ेस है जो कार्ड जारी करने वाले बैंकों को ग्राहकों के लिए आवर्ती भुगतान (recurring payments) सक्षम करने में मदद करेगा।
  • रेज़रपे का लक्ष्य 12 महीनों में 50 से अधिक बैंकों के साथ MandateHQ को एकीकृत करना है।
  • मास्टरकार्ड के अलावा, रेजरपे ने तीन बैंकों के साथ भी सहयोग किया है।यह लगभग 20 बैंकों के साथ बातचीत कर रहा है ताकि उन्हें मौजूदा भुगतान बुनियादी ढांचे में MandateHQ प्रौद्योगिकी को एकीकृत करने में मदद मिल सके।

पृष्ठभूमि

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने आवर्ती ऑनलाइन लेनदेन पर ई-मैंडेट को प्रोसेस करने के लिए एक फ्रेमवर्क जारी किया था। इसने डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड, यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (UPI) और अन्य प्रीपेड पेमेंट इंस्ट्रूमेंट्स (PPIs) का उपयोग करके किए गए 5,000 रुपये से कम के सभी आवर्ती लेनदेन के लिए Additional Factor of Authentication (AFA) को अनिवार्य कर दिया। आरबीआई की अधिसूचना के अनुसार, सभी हितधारकों को 30 सितंबर, 2021 तक इस ढांचे का पूर्ण अनुपालन सुनिश्चित करना आवश्यक है।

RBI के निर्देश का पालन करने के लिए किसे आवश्यक हैं?

आरबीआई का निर्देश उन सभी आवर्ती भुगतानों (recurring payments) पर लागू होता है जो ग्राहकों के क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड या प्रीपेड कार्ड से मोबाइल बिल, उपयोगिता बिल (utility bills) और अन्य आवर्ती बिलों के लिए ऑटोमेटिकली डेबिट हो गए थे। यह ओटीटी स्ट्रीमिंग सेवाओं जैसे सब्सक्रिप्शन भुगतानों पर भी लागू होगा।

Razorpay का MandateHQ

MandateHQ एक एपीआई-आधारित प्लग-एन-प्ले सॉल्यूशन है। यह किसी भी कार्ड जारीकर्ता बैंक के लिए गो-लाइव समय को कम करने के लिए शुरू किया गया था जो अपने ग्राहकों के लिए आवर्ती भुगतान (recurring payments) सक्षम करना चाहता है। यह मैंडेट बनाने, देखने, अपडेट करने, रद्द करने और रोकने जैसे एंड-टू-एंड मैंडेट लाइफसाइकल मैनेजमेंट में बैंकों की मदद करने के लिए एक एकीकृत प्लेटफॉर्म है। यह व्यवसायों, विशेष रूप से सदस्यता-आधारित व्यवसायों को डेबिट कार्ड का उपयोग करने वाले व्यापक ग्राहक आधार तक पहुंच प्राप्त करने में भी मदद करेगा। MandateHQ समाधान अन्य समाधानों के विपरीत सात दिनों के भीतर किसी भी बैंक के साथ पूरी तरह से एकीकृत किया जा सकता है जिसमें सामान्य परिस्थितियों में कुछ सप्ताह लगते हैं। यह बैंकों को ईमेल, SMS और व्हाट्सएप के माध्यम से 24 घंटे पूर्व डेबिट नोटिफिकेशन को सक्षम करने में भी मदद करेगा।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments