RBI गवर्नर ने क्रिप्टोकरेंसी (cryptocurrency) पर चिंता जताई : मुख्य बिंदु

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर, शक्तिकांत दास ने क्रिप्टोकरेंसी पर चिंता जताई और निवेशकों को डिजिटल मुद्रा के संभावित नुकसान के बारे में आगाह किया।

मुख्य बिंदु 

  • समष्टि आर्थिक (macro economic) और वित्तीय स्थिरता के दृष्टिकोण से, क्रिप्टोकरेंसी गंभीर चिंता का विषय है।
  • गवर्नर की यह टिप्पणी ऐसे समय में आई है जब भारतीय निवेशकों में क्रिप्टोकरेंसी लोकप्रियता बढ़ी है।
  • केंद्र सरकार ने भी अभी तक क्रिप्टोकरेंसी पर कोई कानून नहीं बनाया है। फिलहाल यह विशेषज्ञों से सलाह मशविरा कर रही है। कई दौर की चर्चा के बाद, सरकार मोटे तौर पर भारत में क्रिप्टोकरेंसी ट्रेडिंग पर सीमा निर्धारित करना चाहती है।

क्रिप्टोकरेंसी के साथ चुनौतियां

  • IMF के अनुसार, तेजी से विकास और क्रिप्टो परिसंपत्तियों की बढ़ती लोकप्रियता से वित्तीय स्थिरता चुनौतियों का सामना करना पड़ता है।
  • ऐसी विकेन्द्रीकृत मुद्राएं अस्थिरता पैदा कर सकती हैं क्योंकि वे अत्यंत अस्थिर हैं। वे इक्विटी या कमोडिटी या विनिमय दरों की तुलना में बहुत अधिक अस्थिर हैं।
  • डिजिटल मुद्रा की तुलना में इसकी लेनदेन लागत काफी महंगी है।
  • इस रिपोर्ट के अनुसार, इस तरह के लेनदेन से पूंजी प्रवाह अस्थिर हो जाता है। यह क्रिप्टो संपत्ति के प्रावधान से कई परिचालन और वित्तीय अखंडता जोखिम भी पैदा करता है।

क्रिप्टोकरेंसी

यह एक डिजिटल परिसंपत्ति है जो विनिमय के एक माध्यम के रूप में काम करती है जहां कम्प्यूटरीकृत डेटाबेस के रूप में अलग-अलग सिक्के के स्वामित्व के रिकॉर्ड को बही में संग्रहीत किया जाता है। ये रिकॉर्ड एक मजबूत क्रिप्टोग्राफी का उपयोग करके संग्रहीत किए जाते हैं ताकि लेनदेन रिकॉर्ड को सुरक्षित किया जा सके।

पहली क्रिप्टोकरेंसी

बिटकॉइन (Bitcoin) 2009 में ओपन-सोर्स सॉफ्टवेयर के रूप में जारी की गयी पहली क्रिप्टोकरेंसी है। यह पहली विकेन्द्रीकृत क्रिप्टोकरेंसी (decentralized cryptocurrency) है।

Categories:

Tags: , , , , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments