RBI छोटे वित्त बैंकों के लिए पहले SLTRO का संचालन करेगा

भारतीय रिज़र्व बैंक ने हाल ही में घोषणा की कि वह लघु वित्त बैंकों (Small Finance Banks) के लिए 10,000 करोड़ रुपये के पहले विशेष दीर्घकालिक रेपो ऑपरेशन (Special Long Term Repo Operation – SLTRO) का संचालन करेगा।

योजना क्या है?

मई 2021 से शुरू होने वाले प्रत्येक महीने के लिए RBI द्वारा SLTRO का संचालन किया जायेगा। यह अक्टूबर, 2021 तक जारी रहेगा। यह SLTRO तीन वर्षों के लिए वैध होगा। सभी लघु वित्त बैंक SLTRO में भाग लेंगे। हालांकि, इन बैंकों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि RBI से उधार ली गई राशि केवल असंगठित क्षेत्रों और छोटी व्यावसायिक इकाइयों जैसे क्षेत्रों  में उधार दी जानी चाहिए।

पृष्ठभूमि

भारतीय रिजर्व बैंक ने हाल ही में अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के उपायों की घोषणा की थी। इसमें रेपो रेट 4% पर 50,000 करोड़ रुपये की ऑन-टैप लिक्विडिटी विंडो खोलना, बैंकों को COVID लोन बुक बनाने के लिए कहना, लघु वित्त बैंकों के लिए SLTRO का संचालन करना शामिल है।

Special Long Term Repo Operations (SLTRO) क्या है?

इसे आम तौर पर दीर्घकालिक रेपो परिचालन (Long-Term Repo Operations) भी कहा जाता है। Special Long Term Repo Operations एक ऐसा उपकरण है जिसके तहत आरबीआई रेपो रेट पर बैंकों को पैसा मुहैया कराता है। यह सरकारी प्रतिभूतियों को संपार्श्विक (collateral) के रूप में स्वीकार करता है। यह आमतौर पर एक साल से तीन साल की अवधि के लिए प्रदान किया जाता है।

SLTRO का महत्व

यह बैंकों के लिए बेहद फायदेमंद है क्योंकि उन्हें कम दरों पर लंबी अवधि के फंड मिलते हैं। इससे बैंक कर्ज लेने वाले लोगों के लिए कम ब्याज की सुविधा देते हैं। इस प्रकार, Special Long Term Repo Operations भारतीय रिज़र्व बैंक को यह सुनिश्चित करने में मदद करेंगे कि बैंक पॉलिसी दरों को कम किए बिना अपनी उधार दरों को कम करें।

Categories:

Tags: , , , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments