RBI ने एटीएम नकद निकासी नियम में बदलाव किये

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने ATM से नकद निकासी को लेकर कुछ नियमों में बदलाव किया है। नए नियमों में मुफ्त सीमा (free permissible limit) से अधिक लेनदेन पर उच्च शुल्क, नई मुफ्त एटीएम लेनदेन सीमा और इंटरचेंज शुल्क में वृद्धि शामिल है।

मुख्य बिंदु

  • जून 2019 में गठित मुख्य कार्यकारी समिति की सिफारिशों के आधार पर यह परिवर्तन किए गए।
  • भारतीय बैंक संघ ने एटीएम लेनदेन के लिए इंटरचेंज संरचना पर ध्यान केंद्रित करते हुए पूरे एटीएम शुल्क और शुल्क की समीक्षा की।

नए नियम

नए नियम नीचे सूचीबद्ध हैं:

अपने बैंक से मुफ्त नकद निकासी की सीमा:

बैंक ग्राहक अब अपने बैंक के एटीएम से हर महीने पांच मुफ्त वित्तीय और गैर-वित्तीय लेनदेन (transactions) कर सकते हैं।

अन्य बैंक से मुफ्त एटीएम लेनदेन की सीमा:

एटीएम कार्डधारक मेट्रो केंद्रों में तीन मुफ्त वित्तीय और गैर-वित्तीय लेनदेन कर सकते हैं जबकि नॉन-मेट्रो केन्द्रों में अन्य बैंक के 5 एटीएम लेनदेन कर सकते हैं।

एटीएम से नकद निकासी पर शुल्क:

आरबीआई ने बैंकों को एटीएम लेनदेन पर मुफ्त एटीएम लेनदेन सीमा से अधिक शुल्क बढ़ाने की अनुमति दी।

इंटरचेंज शुल्क में वृद्धि :

1 अगस्त, 2021 से वित्तीय लेनदेन के लिए प्रति लेनदेन इंटरचेंज शुल्क 15 रुपये से बदलकर 17 रुपये होगा जबकि गैर-वित्तीय लेनदेन के लिए शुल्क 5 रुपये से बदलकर 6 रुपये कर दिया गया है।

निःशुल्क लेनदेन सीमा से अधिक एटीएम निकासी पर नए शुल्क:

बैंक ग्राहक को 1 जनवरी, 2022 से लेनदेन सीमा से अधिक प्रत्येक एटीएम नकद निकासी के लिए 21 रुपये (वर्तमान में यह 20 रुपये है) का भुगतान करना होगा।

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments