RBI ने लांच किया डिजिटल पेमेंट्स इंडेक्स (Digital Payments Index)

भारतीय रिजर्व बैंक ने हाल ही में भारत में कैशलेस लेनदेन में वृद्धि को मापने के लिए डिजिटल भुगतान सूचकांक जारी किया।

डिजिटल पेमेंट्स इंडेक्स के पैरामीटर क्या हैं?

डिजिटल पेमेंट्स इंडेक्स में पाँच व्यापक पैरामीटर शामिल हैं। देश में डिजिटल भुगतान की पैठ को मापने के लिए इन मापदंडों का भार भिन्न-भिन्न है। डिजिटल पेमेंट्स इंडेक्स और उसके प्रवेश के पैरामीटर इस प्रकार से हैं:

  • भुगतान एनेबलर: 25%
  • भुगतान अवसंरचना-मांग पक्ष कारक : 10%
  • भुगतान अवसंरचना-आपूर्ति पक्ष कारक : 15%
  • भुगतान प्रदर्शन: 45%
  • उपभोक्ता केंद्रिता: 5%

डिजिटल पेमेंट्स इंडेक्स के पेमेंट एनेबलर्स के सब-पैरामीटर क्या हैं?

डिजिटल पेमेंट्स इंडेक्स के पेमेंट एनेबलर्स के अन्य कारकों में इंटरनेट, मोबाइल, बैंक अकाउंट, मर्चेंट और प्रतिभागी शामिल हैं।

डिजिटल पेमेंट्स इंडेक्स के पेमेंट इंफ्रास्ट्रक्चर के सब-पैरामीटर क्या हैं?

डिजिटल पेमेंट्स इंडेक्स के पेमेंट इन्फ्रास्ट्रक्चर के आया मापदंडों में क्रेडिट कार्ड, प्रीपेड पेमेंट इंस्ट्रूमेंट, डेबिट कार्ड, पॉइंट-ऑफ-सेल टर्मिनल, क्विक रिस्पांस कोड, एटीएम शामिल हैं।

डिजिटल पेमेंट्स इंडेक्स के भुगतान प्रदर्शन के सब-पैरामीटर क्या हैं?

डिजिटल भुगतान सूचकांक में भुगतान प्रदर्शन का भार सबसे अधिक है। डिजिटल पेमेंट्स इंडेक्स के भुगतान प्रदर्शन के सब-पैरामीटर पेपर क्लियरिंग, नकद निकासी नियम, डिजिटल भुगतान का ई-वॉल्यूम और मूल्य और प्रचलन में मुद्रा इत्यादि हैं।

डिजिटल पेमेंट्स इंडेक्स में उपभोक्ता केन्द्रिता के अन्य मापदंड क्या हैं?

आरबीआई डिजिटल पेमेंट्स इंडेक्स की उपभोक्ता केंद्रितता के तहत जागरूकता, शिकायत, धोखाधड़ी इत्यादि पर विचार करेगा।

RBI के डिजिटल पेमेंट्स इंडेक्स का आधार वर्ष क्या है?

भारतीय रिजर्व बैंक ने डिजिटल पेमेंट्स इंडेक्स का आधार वर्ष 2018 निर्धारित किया है।

वर्ष 2019 और 2020 के लिए डिजिटल पेमेंट्स इंडेक्स क्या था?

वर्ष 2019 के लिए डिजिटल भुगतान सूचकांक 153.47 था और 2020 के लिए 207.84 था।

डिजिटल पेमेंट्स इंडेक्स कब जारी किया जाएगा?

भारतीय रिज़र्व बैंक मार्च 2021 से अर्ध वार्षिक आधार पर डिजिटल पेमेंट्स इंडेक्स प्रकाशित को प्रकाशित करेगा।

डिजिटल पेमेंट्स इंडेक्स की आवश्यकता

भारत में डिजिटल भुगतानों में काफी तेजी देखी गयी है। यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (यूपीआई) के अनुसार, दिसंबर 2020 में लगभग 4.16 लाख करोड़ रुपये के 223 करोड़ रुपये के लेन-देन किए गए, जबकि नवंबर 2020 में 3.9 लाख करोड़ रुपये के 221 करोड़ रुपये के लेन-देन किये गये थे। देश में डिजिटल लेन-देन दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। इसलिए, इसके विकास को मापना और विकास का समर्थन करने के लिए संबंधित पहलों को लॉन्च करना आवश्यक है।

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments