SAAW (Smart Anti Airfield Weapon) का परीक्षण किया गया

हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) ने हाल ही में SAAW अर्थात ‘Smart Anti Airfield Weapon’ का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है। इसका परीक्षण ओडिशा तट से हॉक-आई विमान से किया गया।

मुख्य बिंदु

‘Smart Anti Airfield Weapon’ का निर्माण अनुसंधान केंद्र इमारत (Research Centre Imarat), DRDO द्वारा स्वदेशी रूप से किया गया है। यह ऐसा पहला स्मार्ट हथियार है जिसे Hawk-Mk132 एयरक्राफ्ट से दागा गया है। हॉक-आई प्लेटफ़ॉर्म HAL के स्वामित्व में है और CSIR लैब्स और DRDO द्वारा स्वदेशी रूप से विकसित हथियारों और प्रणालियों के प्रमाणन के लिए उपयोग किया जाता है। परीक्षण के दौरान SAAW को इस एयरक्राफ्ट से हथियार छोड़ा गया और इस मिशन ने सभी लक्ष्य सफलतापूर्वक प्राप्त किये।

HAL लगातार हॉक-आई की प्रशिक्षण और युद्धक क्षमता को बढ़ा रहा है। HAL हॉक प्लेटफॉर्म पर विभिन्न हथियारों के एकीकरण के लिए भारतीय सशस्त्र बलों के साथ बातचीत भी कर रही है।

हॉक-आई HAL का आंतरिक रूप से वित्त पोषित कार्यक्रम है। हॉक को एक उन्नत जेट ट्रेनर में परिवर्तित करके भारतीय सशस्त्र बलों के लिए अपग्रेड और लड़ाकू क्षमता पेश कर रहा है। यह एडवांस्ड जेट ट्रेनर हथियारों और सेंसर पर प्रशिक्षण प्रदान करेगा।

SAAW एक ‘प्रीसाइज़ स्ट्राइक’ हथियार है जिसे एक एयरक्राफ्ट से दागा जाता है। यह 125 किलोग्राम श्रेणी का एक स्ट्राइक हथियार है जिसका इस्तेमाल दुश्मन एयरफ़ील्ड की संपत्ति जैसे कि बंकर, रडार, रनवे, टैक्सी ट्रैक इत्यादि पर हमला करने और उन्हें नष्ट करने के लिए किया जाता है। इससे पहले, SAAW को जैगुआर विमान से सफलतापूर्वक परीक्षण से दागा गया था।

Categories:

Tags: , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments