SIPRI ने ‘2021 Trends in International Arms Transfers’ रिपोर्ट जारी की

हाल ही में, स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट (SIPRI) ने “2021 Trends in International Arms Transfers” रिपोर्ट प्रकाशित की।

वैश्विक परिदृश्य

  • 2017-21 में भारत, सऊदी अरब, मिस्र, ऑस्ट्रेलिया और चीन पांच सबसे बड़े हथियार आयातक थे। अमेरिका, रूस, फ्रांस, चीन और जर्मनी पांच सबसे बड़े हथियार निर्यातक थे।
  • 2017-21 की अवधि के दौरान शीर्ष पांच आयातकों ने वैश्विक हथियारों के आयात का लगभग 38% हिस्सा आयात किया।
  • 2017-21 की अवधि के दौरान शीर्ष पांच निर्यातकों ने वैश्विक हथियारों के निर्यात का लगभग 77% हिस्सा निर्यात किया।
  • इस रिपोर्ट में कहा गया है कि 2017-21 की अवधि के दौरान वैश्विक हथियारों के हस्तांतरण की मात्रा 2012-16 की अवधि की तुलना में 4.6% कम थी। हालांकि, 2017-21 की अवधि के दौरान वैश्विक हथियारों का हस्तांतरण 2007-11 की अवधि की तुलना में 3.9% अधिक था।

भारत के बारे में डेटा

इस रिपोर्ट के अनुसार, भारत विश्व स्तर पर हथियारों का सबसे बड़ा आयातक है और 2017-21 में, भारत ने वैश्विक हथियारों के आयात का 11% हिस्सा आयात किया। 2012-16 और 2017-21 के दौरान रूस भारत को हथियारों का सबसे बड़ा आपूर्तिकर्ता था। हालांकि, इन दो अवधियों के बीच, रूस से भारत द्वारा आयात की मात्रा में 47% की कमी आई है। इसी अवधि के दौरान, फ्रांस से भारत के आयात में वृद्धि हुई और फ्रांस भारत का दूसरा सबसे बड़ा हथियारों का आपूर्तिकर्ता बन गया है।

भारत के स्वदेशीकरण के प्रयास

2012 से 2016 तक भारत के कुल आयात में 21% की गिरावट आई है। यह स्वदेशी रूप से हथियारों और हथियार प्रणालियों के निर्माण को बढ़ावा देने के लिए सरकार द्वारा दिए गए बल को दर्शाता है। 2022-23 के लिए पूंजी बजट का लगभग 68% घरेलू विनिर्माण उद्योगों के लिए आवंटित किया गया है।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments