UNSC ने अफगानिस्तान पर प्रस्ताव अपनाया

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (United Nations Security Council) में भारत की अध्यक्षता के तहत 30 अगस्त, 2021 को अफगानिस्तान में स्थिति पर एक प्रस्ताव को अपनाया गया।

मुख्य बिंदु 

  • इस प्रस्ताव में मांग की गई थी कि युद्धग्रस्त देश अफगानिस्तान का इस्तेमाल किसी देश को धमकाने या हमला करने या आतंकवादियों को पनाह देने के लिए नहीं किया जाना चाहिए।
  • अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस द्वारा यह प्रस्ताव रखा गया था।
  • इसे 13 परिषद सदस्यों के पक्ष में वोटों के साथ अपनाया गया था।
  • स्थायी सदस्य रूस और चीन इस पर मतदान से दूर रहे।

अफगानिस्तान में तालिबान

तालिबान ने 15 अगस्त, 2021 को अफगानिस्तान में सत्ता पर कब्जा कर लिया। यह अमेरिकी इतिहास में सबसे लंबे युद्ध था।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (United Nations Security Council – UNSC)

यह संयुक्त राष्ट्र के 6 प्रमुख अंगों में से एक है। इस पर अंतर्राष्ट्रीय शांति और सुरक्षा सुनिश्चित करने का कार्यभार है। यह संयुक्त राष्ट्र के नए सदस्यों के महासभा में प्रवेश की भी सिफारिश करता है और संयुक्त राष्ट्र चार्टर में किसी भी बदलाव को मंजूरी देता है। इसकी कुछ शक्तियों में शामिल हैं : शांति अभियानों की स्थापना, अंतर्राष्ट्रीय प्रतिबंध लागू करना और सैन्य कार्रवाई का प्राधिकरण। UNSC एकमात्र संयुक्त राष्ट्र निकाय है जो सदस्य देशों पर बाध्यकारी प्रस्ताव जारी कर सकता है।

UNSC के सदस्य

UNSC में 15 सदस्य होते हैं, जिनमें से पांच स्थायी हैं : चीन, फ्रांस, रूस, यूनाइटेड किंगडम और अमेरिका। स्थायी सदस्य अपनी वीटो शक्ति का प्रयोग मूल संकल्प पर कर सकते हैं। शेष 10 सदस्य क्षेत्रीय आधार पर चुने जाते हैं और दो साल की अवधि के लिए काम करते हैं। इसकी अध्यक्षता सदस्यों के बीच मासिक रूप से घूमती है।

Categories:

Tags: , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments