WHO ने कोविड वैक्सीन असमानता को समाप्त करने का आवाहन किया

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने  अक्टूबर से पहले कोविड-19 वैक्सीन असमानता और वैश्विक असंतुलन को समाप्त करने के लिए विश्व नेताओं से आग्रह किया है।

मुख्य बिंदु 

विकासशील देश कमजोर आबादी का टीकाकरण करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। जबकि धनी देशों में बड़े पैमाने पर लोगों को टीका लगाया जा चुका है।

समानता की समस्या का समाधान कौन कर सकता है?

  • WHO के अधिकारी के अनुसार, दुनिया भर में संभवत: 20 लोग हैं जो इस समानता की समस्या को हल करने के लिए महत्वपूर्ण हैं।
  • ये 20 लोग बड़ी कंपनियों के प्रमुख हैं जो इसके प्रभारी हैं या उन देशों के प्रमुख हैं जो अधिकांश टीकों का अनुबंध कर रहे हैं या टीकों का उत्पादन करने वाले देशों का नेतृत्व करते हैं।

वैक्सीन गिनती

  • AFP के गणना के अनुसार, अब तक दुनिया भर में 4.5 बिलियन वैक्सीन खुराक दी जा चुकी है।
  • उच्च आय वाले देशों में प्रति 100 लोगों पर 104 खुराक दी गई है।
  • 29 सबसे कम आय वाले देशों में, प्रति 100 लोगों पर दो खुराक का इंजेक्शन लगाया गया है।

WHO का लक्ष्य

WHO लक्ष्य है कि सभी देश सितंबर के अंत तक अपनी आबादी का कम से कम 10% और 2021 के अंत तक कम से कम 40% का टीकाकरण करें ताकि 2022 के मध्य तक लगभग 70% आबादी को कवर किया जा सके।

असमान टीकाकरण दर

न्यूयॉर्क टाइम कोविड वर्ल्ड वैक्सीनेशन ट्रैकर के अनुसार, 9 अगस्त तक दुनिया भर में 4.46 बिलियन से अधिक वैक्सीन खुराक दी गई थी। यह प्रत्येक 100 लोगों के लिए 58 खुराक के बराबर है। इसके अनुसार, उच्च और उच्च-मध्यम आय वाले देशों में 83% शॉट्स प्रशासित किए गए, जबकि निम्न-आय वाले देशों में 0.3% टीके लगाये गये। टीकाकरण दर (प्रति 100 लोगों पर प्रशासित खुराक की संख्या) यूरोप में 90% और उत्तरी अमेरिका में 86% है जबकि अफ्रीका में केवल 5.5% है।

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments