WHO ने मंकीपॉक्स (monkeypox) को अंतर्राष्ट्रीय चिंता का सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल (PHEIC) घोषित किया

मई 2022 से 75 देशों में मंकीपॉक्स के 16000 से अधिक मामलों की पहचान की गई है। 23 जुलाई को, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने मंकीपॉक्स के प्रकोप को अंतर्राष्ट्रीय चिंता का सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल (Public Health Emergency of International Concern – PHEIC) घोषित किया। अधिकांश मामले WHO यूरोपीय क्षेत्र में सामने आ रहे हैं। भारत में अब तक 4 मामले सामने आ चुके हैं। वर्तमान में, अधिकांश मामलों को बिना अस्पताल में भर्ती किए या किसी दवा के हल किया जा रहा है। इसकी मृत्यु दर भी कम है।

  • मंकीपॉक्स PHEIC है या नहीं, इसका अध्ययन करने के लिए WHO ने जून 2022 में एक समिति का गठन किया था।
  • इसने 21 जुलाई को समिति का पुनर्गठन किया और मंकीपॉक्स को PHEIC घोषित किया।
  • पिछली बार WHO ने जब एक PHEIC घोषित किया था जो 2020 में covid-19 के लिए था।
  • मंकीपॉक्स रोग मंकीपॉक्स वायरस के कारण होता है।
  • इसमें कुछ दिनों के लिए बुखार और लिम्फ नोड सूजन इत्यादि होती है।
  • यह कोविड-19 से काफी कम गंभीर है और कम आसानी से फैलता है।

मंकीपॉक्स को PHEIC घोषित किया गया था, क्योंकि यह आपातकाल के पहले दो मानदंडों को पूरा कर रहा है:

  • पश्चिम और मध्य अफ्रीका के बाहर वायरस का प्रसार असामान्य पैटर्न है
  • 75 देशों में मामलों के साथ यह पहले ही अंतरराष्ट्रीय स्तर पर फैल चुका है।

PHEIC बनाम महामारी

PHEIC महामारी से अलग है। महामारी एक ऐसी बीमारी है जो एक विस्तृत क्षेत्र में होती है और बड़ी संख्या में लोगों को प्रभावित करती है। दूसरी ओर, PHEIC एक सावधानीपूर्वक परिभाषित शब्द है। इसे ऐसी स्थिति के रूप में परिभाषित किया गया है जो नियंत्रण में है, लेकिन इसमें नियंत्रण से बाहर होने की क्षमता है। अब तक, जीका, इबोला और कोविड -19 सहित केवल 6 PHEIC घोषित किए गए हैं।

Categories:

Tags: , , , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments