पवन उर्जा शिखर सम्मेलन-2018

25 से 28 सितंबर 2018 को जर्मनी के हैम्बर्ग में वैश्विक पवन उर्जा सम्मेलन का प्रथम संस्करण आयोजित किया जाएगा. यह सम्मेलन व्यापार, नेटवर्क और सम्पूर्ण विश्व में लोगों के बीच पवन उर्जा के बारे में प्रचार-प्रसार करने पर केन्द्रित रहेगा. इस सम्मेलन के तीन मुख्य विषय डायनामिक बाजार, कम लागत और स्मार्ट उर्जा है.

मुख्य विशेषताएँ

इस पवन उर्जा शिखर सम्मेलन में 1400 से अधिक प्रतिभागी सम्मिलित होंगे, और यह दुनिया का सबसे बड़ा पवन उर्जा सम्मेलन रहेगा. इस कार्यक्रम का उद्देश्य व्यापार, नेटवर्क और सम्पूर्ण विश्व में लोगों के बीच पवन उर्जा के विषय का प्रचार-प्रसार करना है. सम्मेलन में 100 से अधिक देश भाग लेंगे, जिनमें भारत, चीन, अमेरिका, स्पेन एवं डेनमार्क शामिल है. इस शिखर सम्मेलन कार्यक्रम में ‘विंडइनेर्जी हैम्बर्ग’ और ‘विंडयुरोप’ दो सम्मेलन सम्मिलित होंगे. विंडयूरोप सम्मेलन के 250 विशेषज्ञ 50 से अधिक सेमिनारों में हिस्सा लेंगे, जिन्हें इको-फ्रेंडली तकनीक के लिए एक प्लैटफ़ार्म भी मिलेगा. पवन उर्जा शिखर सम्मेलन का यह पहला संस्करण व्यापार, नेटवर्किंग तथा सूचना के दृष्टिकोण से पवन उर्जा इंडस्ट्री के लिए अति महत्वपूर्ण साबित हो सकता है. इस सम्मेलन में भारत की कई कंपनियां भाग लेते हुये कार्यक्रम मे महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेंगी. पवन उर्जा उत्पादित करने वाले देशों में भारत चौथे स्थान पर है. पवन उर्जा उत्पादन करने वालों देशों की सूची में भारत से पहले अमेरिका एवं जर्मनी का नाम दर्ज है. साथ ही चीन के बाद भारत मे 33 GW पवन उर्जा उत्पादित होती है.

Tags: , ,

Categories:

« »

Advertisement

Comments