पर्यावरण एवं पारिस्थिकी करेंट अफेयर्स

इस श्रेणी में हिन्दी भाषा में पर्यावरण एवं पारिस्थिकी करेंट अफेयर्स एवं समसामयिक घटनाक्रम का SSC, Railways, RAS/RPSC, BPSC, MPPSC, JPSC, HPSC, UPPSC, UKPSC एवं अन्य प्रतियोगिता परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण समाचारों का संग्रह किया गया है।

अंतर्राष्ट्रीय पर्वत दिवस : 11 दिसम्बर

प्रतिवर्ष 11 दिसम्बर को अंतर्राष्ट्रीय पर्वत दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिवस की स्थापना संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 2003 में प्रस्ताव पारित करके की थी। इसका उद्देश्य अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को पर्वत के संरक्षण के लिए प्रेरित करना तथा पर्वतों के महत्व को रेखांकित करने के लिए विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन करना है।

मुख्य बिंदु

इस वर्ष अंतर्राष्ट्रीय पर्वत दिवस की थीम “पर्वत आवश्यक हैं” (Mountains Matter) है। इस दिवस के लिए संयुक्त राष्ट्र खाद्य व कृषि संगठन द्वारा समन्वय किया जाता है। इस दिवस पर पर्वतों के महत्व को दर्शाने के लिए विभिन्न किस्म के कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं।

FAO के अनुसार पर्वत ताज़े पानी का एक महत्वपूर्ण स्त्रोत है, इनसे विश्व के कुल 60-80% ताज़े पानी की आपूर्ति होती है। यह जैव विविधता के लिए भी अति आवश्यक है। विश्व भर में पर्वतीय क्षेत्रों लगभग 1 अरब लोग निवास करते हैं। लगभग आधा अरब लोग जल, भोजन तथा स्वच्छ उर्जा के लिए पर्वतों पर निर्भर हैं। पिछले कुछ समय में जलवायु परिवर्तन, भू-क्षरण, अत्याधिक शोषण तथा प्राकृतिक आपदाओं के कारण पर्वतों को नुकसान हो रहा है।

 

Tags: , , , ,

Categories:

भारत विश्व का चौथा सबसे बड़ा कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जक: रिपोर्ट

हाल ही में ग्लोबल कार्बन प्रोजेक्ट द्वारा किये गये अध्ययन के अनुसार भारत विश्व का चौथा सबसे बड़ा कार्बन डाइऑक्साइड उत्पादक देश है, वर्ष 2017 में भारत ने विश्व का कुल 7% कार्बन  डाइऑक्साइड उत्सर्जन किया। 2018 में भारत के कार्बन उत्सर्जन में 6.3% की वृद्धि हुई, इसमें कोयला (7.1%), तेल (2.9%) तथा गैस (6%) प्रमुख है।

मुख्य बिंदु

विश्व के दस सबसे बड़े कार्बन उत्सर्जन देश हैं : चीन, अमेरिका, यूरोपीय संघ, भारत, रूस, जापान, जर्मनी, ईरान, सऊदी अरब तथा दक्षिण कोरिया। इस अध्ययन में यह सामने आया है कि भारत और चीन अभी भी काफी हद तक कोयले पर निर्भर हैं, जबकि अमेरिका और यूरोपीय संघ धीरे-धीरे कम कार्बन उत्सर्जन कर रहे हैं।

भारत कार्बन डाइऑक्साइड के उत्सर्जन के लिए सौर उर्जा पर निरंतर कार्य कर रहा है, कार्बन उत्सर्जन को कम करने के लिए भारत को अंतर्राष्ट्रीय सोलर संगठन में अपनी सशक्त भूमिका निभानी होगी। इस अध्ययन रिपोर्ट को संयुक्त राष्ट्र जलवायु सम्मेलन 2018 के अवसर पर जारी किया गया। इस रिपोर्ट में 2018 में कार्बन डाइऑक्साइड के उत्सर्जन में वृद्धि होने का अंदेशा जताया गया है, इसका मुख्य कारण तेल तथा गैस के उपयोग में वृद्धि है।

Tags: , , , , , , ,

Categories:

वन्यजीव अपराध नियंत्रण ब्यूरो ने एशियाई पर्यावरण प्रवर्तन पुरस्कार 2018 जीता

हाल ही में भारतीय संगठन वन्यजीव अपराध नियंत्रण ब्यूरो (WCCB) तथा इसके प्रवर्तन अधिकारी आर.एस. शरत को एशियाई पर्यावरण प्रवर्तन पुरस्कार 2018 से सम्मानित किया गया, यह पुरस्कार संगठन तथा व्यक्तगत श्रेणी में प्रदान किया गया।

उन्हें यह पुरस्कार ट्रांस-बाउंड्री पर्यावरण अपराध की रोकथाम के लिए दिए गये महत्वपूर्ण योगदान के लिए दिया गया है। भारत ने लगातार दूसरी बार संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रदान किया जाने वाला यह पुरस्कार जीता है।

वन्यजीव अपराध नियंत्रण ब्यूरो (WCCB)

वन्यजीव अपराध नियंत्रण ब्यूरो (WCCB) एक वैधानिक संस्था है, इसकी स्थापना भारत सरकार ने पर्यावरण मंत्रालय के अंतर्गत की है, इसका उद्देश्य देश में संगठित वन्यजीव अपराध पर लगाम लगाना है। इसकी स्थापना 6 जून, 2007 को हुई थी, इसके लिए वन्यजीव (सुरक्षा) अधिनियम, 1972 में संशोधन किया गया था। यह संगठन वन्यजीव अपराध से जुड़ी जानकारी एकत्रित करता है तथा इसे राज्यों तथा अन्य प्रवर्तन एजेंसियों के साथ साझा करती है। इसका मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है।

Tags: , , , ,

Categories:

Advertisement