करेंट अफेयर्स (समाचार सारांश) - अक्तूबर, 2018

एशियाई चैंपियंस ट्रॉफी हॉकी 2018 : भारत और पाकिस्तान संयुक्त विजेता घोषित

एशियाई चैंपियंस ट्रॉफी हॉकी में भारत और पाकिस्तान को संयुक्त विजेता घोषित किया गया। बारिश के चलते मैच नहीं हो सका, इसलिए दोनों टीमों को संयुक्त विजेता घोषित किया गया।

मुख्य बिंदु

एशियाई चैंपियंस ट्रॉफी हॉकी का आयोजन मस्कट में किया जा रहा था, लगातार बारिश के बाद दोनों दलों के कोच से विचार-विमर्श के बाद दोनों टीमों को संयुक्त विजेता घोषित किया गया। इस प्रतियोगिता में भारत ने कोई मैच नहीं हारा। भारत ने राउंड रोबिन स्टेज में 13 पॉइंट लिए, जबकि पाकिस्तान के राउंड रोबिन स्टेज में 10 पॉइंट थे। भारत ने पाकिस्तान को राउंड रोबिन स्टेज के एक मुकाबले में 3-1 से हराया था। इससे पहले भारत और पाकिस्तान दो-दो बार इस खिताब को जीत चुके हैं। भारत ने 2011 और 2016 में एशियाई चैंपियन ट्राफी हॉकी के खिताब को जीता था। पाकिस्तान ने 2012 और 2013 में इस खिताब को अपने नाम किया गया था। एशियाई चैंपियन ट्रॉफी हॉकी प्रतियोगिता की शुरुआत वर्ष 2011 में हुई थी।

Tags: , , ,

Categories:

नई दिल्ली में किया गया नार्थ ईस्ट फेस्टिवल का आयोजन

नई दिल्ली में हाल ही में नार्थ ईस्ट फेस्टिवल का 6वां संस्करण संपन्न हुआ। इस फेस्टिवल में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) पर भी चर्चा की गयी। इस फेस्टिवल में विभिन्न उत्तर-पूर्वी राज्यों के संगीत, नृत्य तथा संस्कृति इत्यादि पर प्रस्तुतियां दी गयी।

मुख्य बिंदु

  • इस फेस्टिवल में बगरुम्बा नृत्य, त्रिपुरा का होज़ागिर नृत्य, असम के बिहू नृत्य, गारो वांगला नृत्य तथा मणिपुरी मार्शल आर्ट थांग ता की प्रस्तुतियां दी गयीं।
  • इस दौरान पारंपरिक परिधानों के फैशन शो का आयोजन भी किया गया।
  • इस फेस्टिवल में उत्तर-पूर्व के विभिन्न जैविक खाद्य पदार्थों व सब्जियों की प्रदर्शनी भी थी।
  • उत्तर-पूर्व के 150 से अधिक हथकरघा उद्योग से सम्बंधित स्टाल भी लगाए गये थे।
  • इसके अतिरिक्त कृषि, बागवानी तथा खाद्य प्रसंस्करण से सम्बंधित स्टाल भी लगाए गये थे।

थांग ता तथा सरित सरक : यह दो मणिपुर राज्य के मार्शल आर्ट हैं। मणिपुरी भाषा में “थांग” का अर्थ तलवार तथा “ता” का अर्थ भाला है। थांग ता प्राचीन मार्शल आर्ट हुएन लालोंग का आधुनिक संस्करण है। थांग ता के निशस्त्र संस्करण को “सरित सरक” कहा जाता है।

Tags: , , , , , ,

Categories:

मैमल्स ऑफ़ इंडिया : भारत में स्तनधारी जीवों की सूचना का नवीन संग्रह

मैमल्स ऑफ़ इंडिया भारत में स्तनधारी जीवों की सूचना का नवीन संग्रह है, इसका शुरुआत बेंगलुरु के राष्ट्रीय जैव विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिकों तथा शोधकर्ताओं ने की है। इस नागरिक-वैज्ञानिक रिपॉजिटरी की शुरुआत सितम्बर, 2018 में की गयी थी, यह भारत में इस प्रकार की पहली रिपॉजिटरी है।

मैमल्स ऑफ़ इंडिया : प्रमुख तथ्य

  • यह एक ऑनलाइन पोर्टल है, इसका उद्देश्य भारत में पाए जाने वाले सभी स्तनधारी जीवों को एकत्रित करके प्रकाशित करना है।
  • आम लोग mammalsofindia.org पर स्तनधारी जीवों के फोटो अपलोड कर सकते हैं, 25 अक्टूबर, 2018 तक 161 स्तनधारी प्रजातियों के 768 चित्र अपलोड किये जा चुके हैं।
  • इस पोर्टल पर मणिपुर के रेड सेरो,जम्मू-कश्मीर की लिंक्स, अरुणाचल प्रदेश के वेस्ट कामेंग जिले की एशियाई गोल्डन कैट तथा ईस्ट कामेंग जिले से बिन्टूरोंग इत्यादि कई दुर्लभ प्रजातियों के चित्र अपलोड किये जा चुके हैं।
  • इस पोर्टल के द्वारा देश में विभिन्न स्तनधारी प्रजातियों के वितरण का पता चल सकेगा।
  • मैमल्स ऑफ़ इंडिया “बायोडायवर्सिटी एटलस” प्रोजेक्ट का हिस्सा है, “बायोडायवर्सिटी एटलस” प्रजाति आधारित बायो-इन्फार्मेटिक्स प्लेटफार्म है।

भारतीय जैव-विविधता के संरक्षण में नागरिक-वैज्ञानिक प्रोजेक्ट

भारत में नागरिक-वैज्ञनिक प्रोजेक्ट्स से काफी परिवर्तन आ रहा है, इन प्रोजेक्ट्स की सहायता से जैव-विविधता के बारे में वैज्ञानिक सूचना के संग्रहण में काफी सहायता मिलती है। इस प्रकार के प्रोजेक्ट्स से लोग पर्यावरण सम्बन्धी कार्यों के लिए सूचना एकत्रित करके प्रत्यक्ष रूप से अपना योगदान दे सकते हैं। जैव-विविधता से सम्बंधित डाटा एकत्रीकरण में नागरिकों की भूमिका काफी महत्वपूर्ण है।

भारत का क्षेत्रफल विश्व के कुल क्षेत्रफल का 2.4% हिस्सा है, परन्तु भारत में विश्व की कुल स्तनधारी प्रजातियों में से 7-8% प्रजातियाँ पाई जाती हैं। भारत में स्तनधारी जीवों को 426 प्रजातियाँ पायी जाती हैं, यह विश्व की कुल स्तनधारी प्रजातियों का 8.86% है।

Tags: , , , ,

Categories:

Advertisement