करेंट अफेयर्स एवं हिन्दी समाचार सारांश

एमनेस्टी इंटरनेशनल ने आंग सान सू ची से वापस लिया सर्वोच्च सम्मान

हाल ही में अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार संस्था एमनेस्टी इंटरनेशनल ने म्यांमार की नेता आंग सान सू ची को प्रदान किया गया सर्वोच्च सम्मान वापस लिया। सू ची से यह पुरस्कार रोहिंग्या संकट के दौरान कारवाई न करने के कारण लिया गया है। म्यांमार की सेना द्वारा की गयी कारवाई के बाद 7 लाख से अधिक रोहिंग्याओं को रखीन प्रांत से पलायन करना पड़ा था। एमनेस्टी इंटरनेशनल ने सू ची को अपने सर्वोच्च सम्मान Ambassador of Conscience Award से वर्ष 2009 में सम्मानित किया था। पिछले महीने उनकी कनाडा की मानद नागरिकता भी रद्द की गयी थी।

आंग सान सू ची

आंग सान सू ची का जन्म 19 जून, 1945 को बर्मा के रंगून (अब यंगून, म्यांमार) में हुआ था। आंग सान सू ची म्यांमार की राजनेता, कूटनीतिज्ञ तथा लेखक हैं, उन्हें 1991 में नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। वे वर्तमान में म्यांमार की स्टेट काउंसलर हैं। उन्हें लोकतंत्र की प्रबल समर्थक के रूप में जाना जाता है। सू ची को क्रूर सैन्य तानाशाही का विरोध करने के कारण 15 वर्षों तक नज़रबंद रखा गया। उनके संघर्ष के लिए उन्हें रफ्तो प्राइज, सखारोव पुरस्कार, नोबेल शांति पुरस्कार, जवाहरलाल नेहर पुरस्कार, अंतर्राष्ट्रीय सिमोन बोलिवर पुरस्कार, ओलाफ पाल्मे पुरस्कार, भगवान् महावीर विश्व शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

एमनेस्टी इंटरनेशनल

एमनेस्टी इंटरनेशनल एक गैर-सरकार मानवाधिकार संगठन है। इसकी स्थापना जुलाई, 1961 में पीटर बेनेसन द्वारा की गयी थी। इसका मुख्यालय लन्दन में स्थित है। एमनेस्टी इंटरनेशनल को 1977 में नोबेल शांति पुरस्कार प्रदान किया गया था। वर्ष 1978 में एमनेस्टी इंटरनेशनल को मानवाधिकार के क्षेत्र में संयुक्त राष्ट्र पुरस्कार प्रदान किया जायेगा। वर्तमान में एमनेस्टी इंटरनेशनल के महासचिव भारतीय मूल के कुमि नायडू हैं।

Tags: , , , , ,

Categories:

SpiNNaker: मस्तिष्क की भाँती कार्य करने वाले सुपर-कंप्यूटर को शुरू किया गया

विश्व के सबसे बड़े Spiking Neural Network Architecture (SpiNNaker) को हाल ही में शुरू किया, यह मशीन इंसान के दिमाग की भाँती काम करती है।

SpiNNaker

SpiNNaker का डिजाईन व विकास यूनाइटेड किंगडम के मेनचेस्टर विश्वविद्यालय ने किया है। यह सुपर कंप्यूटर विश्व में किसी भी अन्य मशीन से ज्यादा बायोलॉजिकल न्यूरोंस को मॉडल कर सकता है। बायोलॉजिकल न्यूरॉन मस्तिष्क की आधारभूत कोशिकाएं होती हैं, यह इलेक्टो-केमिकल उर्जा का उत्सर्जन करती हैं।

यह एक सेकंड में 200 मिलियन गणनाएं कर सकता है। इसकी प्रत्येक चिप में 100 मिलियन ट्रांजिस्टर हैं। इसकी  मस्तिष्क की संचार व्यवस्था काफी हद तक मानवीय मस्तिष्क की तरह है। यह सुपरकंप्यूटर विभिन्न भागों को एक ही समय में सूचना का प्रसार करता है।

उपयोग 

इसका उपयोग फार्मास्यूटिकल टेस्टिंग के लिए किया जा सकता है। इसके अलावा यह सुपरकंप्यूटर मानवीय मस्तिष्क की कार्यशैली को समझने में भी उपयोगी सिद्ध हो सकता है। इसका उपयोग छोटे मोबाइल रोबोट के निर्माण में किया जा सकता है, जो चलने तथा बोलने में सक्षम हों।

Tags: , , ,

Categories:

एशियाई विकास बैंक EESL को भारत में उर्जा दक्षता को बढ़ावा देने के लिए देगा 13 मिलियन डॉलर का ऋण

एशियाई विकास बैंक EESL को भारत में उर्जा दक्षता को बढ़ावा देने के लिए 13 मिलियन डॉलर का ऋण प्रदान करेगा। यह ऋण विश्व पर्यावरण फैसिलिटी (GEF) द्वारा जारी किया जायेगा, यह ऋण मांग पक्ष उर्जा दक्षता सेक्टर प्रोजेक्ट के लिए ADB द्वारा किये जाने वाले 200 मिलियन डॉलर के ऋण का हिस्सा है।

मुख्य बिंदु

एशियाई विकास बैंक, उर्जा दक्षता सेवाएं लिमिटेड (EESL) की कई परियोजनाओं जैसे LED स्ट्रीट लाइटिंग इत्यादि कार्यों के लिए वित्तीय सहायता प्रदान कर रहा है।
इस नवीन ऋण की राशि को एशियाई विकास बैंक द्वारा GEF के माध्यम से प्रदान किया जायेगा, इस राशि का उपयोग नवीन तकनीकों जैसे ट्राईजनरेशन, दक्ष मोटर व एयर कंडीशनर, स्मार्ट मीटर, स्मार्ट ग्रिड इत्यादि के लिए किया जायेगा।

एडीबी एक क्षेत्रीय विकास बैंक है जिसका उद्देश्य एशिया में सामाजिक और आर्थिक विकास को बढ़ावा देना है। इसकी स्थापना दिसंबर 1966 में की गयी थी। इसका मुख्यालय मनीला (फिलीपींस) में स्थित है। इसके कुल 67 सदस्य हैं, जिनमें से 48 एशिया और प्रशांत क्षेत्र जबकि बाकी 19 अन्य क्षेत्र के हैं। एडीबी का मुख्य उद्देश्य सामाजिक और आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए ऋण, तकनीकी सहायता, अनुदान और इक्विटी निवेश प्रदान करके अपने सदस्यों और भागीदारों की सहायता करना है।

Tags: , , ,

Categories:

Advertisement