करेंट अफेयर्स एवं हिन्दी समाचार सारांश

बेल्जियम के प्रधानमंत्री चार्ल्स मिशेल ने अपने पद से इस्तीफ़ा दिया

बेल्जियम के प्रधानमंत्री चार्ल्स मिशेल ने 18 दिसम्बर, 2018 को अपने पद से इस्तीफ़ा दिया। दरअसल बेल्जियम ने “सुरक्षित व व्यवस्थित प्रवास के लिए वैश्विक समझौते” पर हस्ताक्षर किये, इससे प्रधानमंत्री के विरुद्ध देश में प्रदर्शन हुए और उनके इस्तीफे की मांग की गयी।

मुख्य बिंदु

इस समझौते के बाद N-VA पार्टी ने गठबंधन सरकार से अपना समर्थन वापस लिया, जिससे चार्ल्स मिशेल की सरकार संकट में घिर गयी। अब उनके पास संसद में 150 में से केवल 52 सीटें ही हैं। चार्ल्स मिशेल ने 38 वर्ष की आयु में अक्टूबर, 2014 में प्रधानमंत्री पद की शपथ थी, उस समय वे 1841 के बाद के सबसे युवा प्रधानमंत्री थे।

बेल्जियम

बेल्जियम पश्चिमी यूरोप में स्थित है, इसका राजधानी ब्रुसेल्स में है। बेल्जियम का क्षेत्रफल 30,528 वर्ग किलोमीटर है, इसकी जनसँख्या लगभग 1 करोड़ है। बेल्जियम की मुद्रा यूरो है। बेल्जियम ने 4 अक्टूबर, 1830 को नीदरलैंड्स से स्वतंत्रता की घोषणा की थी।

Tags: , , , ,

Categories:

19 दिसम्बर : गोवा मुक्ति दिवस

19 दिसम्बर को गोवा मुक्ति दिवस के रूप में मनाया जाता है। गोवा को पुर्तगाली शासन ने 19 दिसम्बर, 1961 को मुक्त किया गया था।

पृष्ठभूमि

पुर्तगाली भारत में 1510 में आये, उन्होंने पश्चिमी तट के कई क्षेत्रों में अपना आधिपत्य स्थापित किया। 19वीं शताब्दी के अंत तक पुर्तगालियों ने गोवा, दमन, दिउ, दादरा, नगर हवेली और अन्जेदिवा द्वीप पर कब्ज़ा कर लिया था। भारत की स्वतंत्रता के बाद तत्कालीन सरकार ने गोवा को भारत में शामिल करने के लिए पुर्तगालियों से बातचीत का मार्ग चुना। परन्तु यह माध्यम सफल नहीं हो सका। अंत में तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरु ने भारतीय सशस्त्र सेनाओं को बलपूर्वक गोवा को भारत में शामिल करने के आदेश दिया। 18-19 दिसम्बर, 1961 को भारतीय सेना ने सैन्य ऑपरेशन चलाया और गोवा को सफलतापूर्वक भारत में शामिल करवाया।

गोवा की मुक्ति के बाद 1963 में भारत की संसद ने गोवा को भारत में आधिकारिक रूप से शामिल करने के लिए 12वां संवैधानिक संशोधन पारित किया। इसके द्वारा गोवा, दमन व दिउ तथा दादरा व नगर हवेली को केंद्र शासित प्रदेश घोषित किया गया। 1987 में गोवा को दमन व दिउ से अलग करके एक पूर्ण राज्य का दर्जा दिया गया।

Tags: , , ,

Categories:

चंपारण आन्दोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले राजकुमार शुक्ला पर डाक टिकट जारी किया गया

18 दिसम्बर, 2018 को केन्द्रीय संचार राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) तथा रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने नई दिल्ली में चंपारण आन्दोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले राजकुमार शुक्ला की समृति में डाक टिकट जारी किया।

राजकुमार शुक्ला

राजकुमार शुक्ला का जन्म 23 अगस्त, 1875 को बिहार के चंपारण में हुआ था। उन्होंने गांधीजी को चंपारण आने के लिए आमंत्रित किया था। तत्पश्चात महात्मा गाँधी ने नील की खेती करने वाले किसानों के लिए आवाज़ उठाई तथा 1917 में चंपारण सत्याग्रह किया।

चंपारण सत्याग्रह

  • बागान मालिकों द्वारा प्रयुक्त तिनकठिया पद्धति के विरोध में किया गया चंपारण सत्याग्रह (1917) एक अहिंसक आंदोलन था, जिसने गांधी जी के सत्य तथा अहिंसा के ऊपर लोगों के विश्वास को भारत में सुदृढ़ किया। यह आंदोलन एक युग प्रवर्तक के रूप में उभरा।
  • यह सत्य पर आधारित गुलाम भारत का प्रथम अहिंसक आंदोलन था। विरोधियों की निंदा करने के स्थान पर उनकी गलत नीतियों तथा शोषणयुक्त व्यवहार का तर्कपूर्ण विरोध इसके अंतर्गत किया गया।
  • महिलाओं तथा अन्य स्थानीय लोगों के साथ-साथ कमज़ोर समझे जाने वाले वर्ग ने भी बढ़-चढ़ कर इसमें हिस्सा लिया।
  • इसकी विशेष बात यह थी कि बिना किसी कठोर कार्रवाई के ही तिनकठिया पद्धति का अंत हो गया। तिनकठिया पद्धति के समाप्त होने के बाद भी बागान मालिक और किसानों के संबंध खराब नहीं हुए।
  • भारत में इस आंदोलन के बाद से ही गांधी जी और उनकी अहिंसात्मक पद्धति का महत्त्व बढ़ा तथा वे एक वैश्विक नेता के रूप में उभरे।

Tags: , , , ,

Categories:

Advertisement