आंध्र प्रदेश

सामरिक पेट्रोलियम भंडार क्या है और यह भारत के लिए ज़रूरी क्यों है?

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हाल ही में आंध्र प्रदेश के गुंटूर में सामरिक पेट्रोलियम भण्डारण का उद्घाटन किया। यह कार्य प्राइवेट-पब्लिक-पार्टनरशिप के तहत किया जायेगा। सामरिक पेट्रोलियम भंडार एक किस्म का कृत्रिम भूमिगत कक्ष है, इसकी तेल भण्डारण क्षमता 2.5 मिलियन मीट्रिक टन (MMT) है। इसके कुल चार भाग हैं, प्रत्येक भाग की क्षमता 0.625 मिलियन मीट्रिक टन है।

पृष्ठभूमि

इंडियन स्ट्रेटेजिक पेट्रोलियम रिज़र्व लिमिटेड (ISPRL) ने तीन स्थानों मंगलोर (1.5 MMT), विशाखापत्तनम (1.33 MMT) तथा पदुर (2.5 MMT) पर कुल मिलाकर 5.33 MMT क्षमता वाले कच्चे तेल के स्टोरेज स्थलों का निर्माण किया है। पहले चरण में सामरिक पेट्रोलियम भंडार कार्यक्रम के तहत 9 दिन तक भारत की कच्चे तेल आवश्यकता को पूरा किया जा सकता है। इसके अलावा सरकार ने ओडिशा के चंदीखोल तथा कर्नाटक के पदुर में दूसरे चरण के लिए 6.5 MMT क्षमता की सामरिक पेट्रोलियम भंडार के निर्माण को भी मंज़ूरी दे दी है। इससे भारत की उर्जा सुरक्षा में 11.5 दिन की वृद्धि होगी।

Tags: , , , , , , ,

Categories:

अमरावती में किया गया न्यायिक परिसर का उद्घाटन

भारत के मुख्य न्यायधीश रंजन गोगोई तथा नाधरा प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चन्द्रबाबू नायडू ने अमरावती में न्यायिक परिसर का उद्घाटन किया। इस परिसर में आंध्र प्रदेश के लिए अंतरिम उच्च न्यायालय कार्य करेगा। मुख्य न्यायधीश ने गुंटूर जिले के नेलापडू में उच्च न्यायालय के स्थायी भवन की आधारशिला भी रखी।

2018 तक आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के लिए एक ही उच्च न्यायालय था। हाल ही में केंद्र सरकार ने सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के बाद दोनों राज्यों के लिए अलग-अलग उच्च न्यायालयों की व्यवस्था की थी

अमरावती न्यायिक परिसर

अमरावती ने न्यायिक परिसर का निर्मात आंध्र प्रदेश राजधानी क्षेत्र विकास प्राधिकरण द्वारा किया जायेगा, यह कार्य 8 महीने में पूरा कर लिया जायेगा। इस निर्माण कार्य में 173 करोड़ रुपये का व्यय किया जायेगा। इस अस्थायी व्यवस्था का उपयोग आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय के लिए किया जाएगा। जब नेलापडू में नए उच्च न्यायालय का निर्माण कार्य हो जायेगा तो इस न्यायिक परिसर में सिविल कोर्ट कार्य करेगा।

मूल रूप में आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय का उद्घाटन 5 जुलाई, 1954 को गुंटूर में किया गया था। परन्तु बाद में इसे अक्टूबर, 1956 में हैदराबाद स्थानांतरित किया गया था।

Tags: , , , , , , ,

Categories:

एशिया प्रतिस्पर्धात्मक संस्थान ने जारी की भारतीय राज्यों की इज़ ऑफ़ डूइंग बिज़नेस रैंकिंग

एशिया प्रतिस्पर्धात्मक संस्थान ने भारतीय राज्यों की इज़ ऑफ़ डूइंग बिज़नेस रैंकिंग जारी की। इस रैंकिंग में आंध्र प्रदेश के पहला स्थान मिला जबकि महाराष्ट्र और दिल्ली क्रमशः दूसरे और तीसरे स्थान पर रहे।

आंध्र प्रदेश का प्रदर्शन

2016 में व्यापार आकर्षण में आंध्र प्रदेश का स्थान सातवाँ था। व्यापार करने की सहूलियत में आंध्र प्रदेश को इस वर्ष प्रथम स्थान दिया गया है। आंध्र प्रदेश निवेशकों के लिए एक बेहतर स्थान बन गया है। प्रतिस्पर्धात्मक नीतियों में आंध्र प्रदेश दूसरे से चौथे स्थान पर पहुँच गया है। 2016 में आंध्र प्रदेश की ओवरआल रैंकिंग 5 थी, इस वर्ष आंध्र पहले स्थान पर पहुँच गया है।

आंध्र प्रदेश में सुधार के लिए स्कोप

एशिया प्रतिस्पर्धात्मक संस्थान ने आंध्र प्रदेश के लिए सुधार लिए निम्नलिखित क्षेत्र बताये हैं:

  • इस रिपोर्ट में कहा गया है कि आंध्र प्रदेश को पहले स्थान पर बने रहने के लिए कई संस्थागत तथा अधोसंरचनात्मक दूरियों को समाप्त करना होगा।
  • आंध्र प्रदेश का प्रदर्शन कामगार घनत्व, प्रत्यक्ष विदेशी निवेश, अधोसंचरना, श्रम उत्पादकता तथा साक्षरता दर  इत्यादि क्षेत्र में ख़राब रहा।
  • रिपोर्ट को मध्य नज़र रखते हुए आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री ने कहा है कि राज्य सरकार इस रिपोर्ट के बिन्दुओं का अवलोकन करेगी तथा कमज़ोर क्षेत्रों में सुधार करने के लिए कार्य करेगी।

Tags: , , ,

Categories:

Advertisement