आपदा प्रबंधन

भारत और जापान ने किया आपदा नियंत्रण अभ्यास

भारत और जापान के तटरक्षक बालों ने जापान में योकोहामा के तट के निकट आपदा नियंत्रण, खोज व बचाव अभ्यास किया। पिछले वर्ष इस अभ्यास का आयोजन भारत में किया गया था। इस अभ्यास में भारत की ओर से ICGS शौनक नामक पोत से अभ्यास में हिस्सा लिया।

मुख्य बिंदु

ICGS शौनक भारतीय तटरक्षक बल का ऑफशोर पट्रोल वेसल है। इस वेसल की लम्बाई 105 मीटर है। इस वेसल में 2 ट्विन-इंजन लाइट हेलीकाप्टर, पांच हाई स्पीड बोट्स ले जाई जा सकती है, यह खोज व बचाव कार्य के लिए महत्वपूर्ण हैं।

ICGS शौनक में नेविगेशन व संचार उपकरण, सेंसर, 30 mm CRN 91 नेवल गन, इंटीग्रेटेड ब्रिज सिस्टम, इंटीग्रेटेड मशीनरी कण्ट्रोल सिस्टम, पॉवर मैनेजमेंट सिस्टम तथा बाह्य अग्नि शमन सिस्टम भी उपलब्ध है।

इस अभ्यास का उद्देश्य दोनों देशों द्वारा आपदा नियंत्रण में अपने अनुभव तथा कौशल को एक-दूसरे के साथ साझा करना था। जापान में प्राकृतिक आपदाएं जैसे भूकंप तथा समुद्री तूफ़ान वर्ष भर आते रहते हैं। भारत को 7000 किलोमीटर से अधिक तटरेखा पर कई किस्म की आपदाओं का सामना करना पड़ता है।

Tags: , , , , , ,

Categories:

NDRF को पहले नेताजी सुभाष चन्द्र बोस आपदा प्रबंधन पुरस्कार के लिए चुना गया

हाल ही में NDRF की आठवीं बटालियन को पहले नेताजी सुभाष चन्द्र बोस आपदा प्रबंधन पुरस्कार के लिए चुना गया है। इसकी घोषणा नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की जयंती (23 जनवरी) के अवसर पर की गयी।

सुभाष चन्द्र बोस आपदा प्रबंधन पुरस्कार के द्वारा उन व्यक्तियों तथा संस्थानों को सम्मानित किया जायेगा जिन्होंने ने आपदा प्रबंधन में देश में बेहतरीन कार्य किया है। इस पुरस्कार का उद्देश्य उन लोगों व संगठनों के प्रयासों को सम्मानित करना है, जिन्होंने आपदा के दौरान लोगों की सहायता की है।

सुभाष चन्द्र बोस आपदा प्रबंधन पुरस्कार

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (NDMA) द्वारा जारी स्टेटमेंट के अनुसार तीन योग्य संस्थान तथा व्यक्ति “सुभाष चन्द्र बोस आपदा प्रबंधन पुरस्कार से प्रतिवर्ष सम्मानित किये जायेंगे, उन्हें 5 लाख रुपये से 51 लाख रुपये की राशि इनामस्वरुप प्रदान की जायेगी। इस पुरस्कार के लिए केवल भारतीय नागरिक तथा भारतीय संगठन ही योग्य हैं।

यदि पुरस्कार जीतने वाले कोई व्यक्ति है तो उसे एक प्रमाण पत्र तथा 5 लाख रुपये प्रदान किये जायेंगे। यदि पुरस्कार विजेता कोई संस्थान है तो उसे एक प्रमाण पत्र तथा 51 लाख रुपये प्रदान किये जायेंगे। इस इनाम राशि का उपयोग केवल आपदा प्रबंधन से सम्बंधित कार्य के लिए ही किया जा सकता है।

राष्ट्रीय आपदा अनुक्रिया बल (NDRF)

NDRF आपदा के समय त्वरित क्रिया करने वाला बल है, इसकी स्थापना वर्ष 2006 में आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 के अंतर्गत की गयी थी। NDRF का मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है। यह केन्द्रीय गृह मंत्रालय के अंतर्गत कार्य करता है। NDRF के लिए नीति, योजना तथा दिशेनिर्देश का निर्माण राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (NDMA) द्वारा किया जाता है।

NDRF प्राकृतिक आपदा, मानव निर्मित आपदा, दुर्घटना अथवा आपातकाल के दौरान राहत व बचाव कार्य करता है। इस दौरान जान-माल की रक्षा के लिए NDRF स्थानीय एजेंसियों के साथ मिलकर कार्य करता है। वर्तमान में NDRF के 12 बटालियन देश के अलग-अलग हिस्सों में नियुक्त की गयी हैं।

 

Tags: , , , , , ,

Categories:

भारत और एशियाई विकास बैंक ने असम के लिए 60 मिलियन डॉलर के समझौते पर हस्ताक्षर किये

भारत सरकार ने एशियाई विकास बैंक के साथ असम के 60 मिलियन डॉलर के ऋण समझौते पर हस्ताक्षर किये। इस राशि का उपयोग असम में ब्रह्मपुत्र नदी के साथ बाढ़ से जोखिम बचाव प्रबंधन तथा पुनर्निर्माण इत्यादि के लिए किया जायेगा। इसका उद्देश्य असम में बाढ़ तथा नदी तट अपरदन जोखिम प्रबंधन प्रणाली  को प्रभावशाली तथा भरोसेमंद बनाना है। इस ऋण की अवधि 20 वर्ष है, इसका ग्रेस पीरियड 5 वर्ष है।

मुख्य बिंदु

वर्ष 2010 में एशियाई विकास बैंक ने असम एकीकृत बाढ़ व नदी तथा अपरदन जोखिम प्रबंधन निवेश कार्यक्रम के लिए दो किश्तों में 120 मिलियन डॉलर के ऋण को मंज़ूरी प्रदान की थी। इस कार्यक्रम के प्रोजेक्ट 2 से तीन सब-प्रोजेक्ट्स – पलास्बरी गुमी, काजीरंगा तथा डिब्रूगढ़ में बाढ़ से बचाव के लिए बाड़बंदी की जायेगी।

इन प्रोजेक्ट्स का क्रियान्वयन असम बाढ़ व नदी अपरदन प्रबंधन एजेंसी तथा असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण हैं। इस प्रोजेक्ट के तहत आपदा प्रबंधन के पूर्वानुमान के लिए आपदा प्रबंधन प्रणाली को मज़बूत बनाया जायेगा।

ब्रह्मपुत्र नदी

इस नदी का उद्गम तिब्बत में मानसरोवर झील से होता है, तिब्बत में इस नदी को यारलुंग सांग्पो के नाम से जाना जाता है। यह नदी चीन, भारत और बांग्लादेश में बहती है। चीन में इसे यारलुंग सांग्पो, भारत में ब्रह्मपुत्र, बांग्लादेश में गंगा में मिलने से फेल इसे जमुना कहा जाता है, जबकि बंगाल की खाड़ी में गिरते समय  इसे मेघना कहा जाता है।

एशियाई विकास बैंक

एडीबी एक क्षेत्रीय विकास बैंक है जिसका उद्देश्य एशिया में सामाजिक और आर्थिक विकास को बढ़ावा देना है। इसकी स्थापना दिसंबर 1966 में की गयी थी। इसका मुख्यालय मनीला (फिलीपींस) में स्थित है। इसके कुल 67 सदस्य हैं, जिनमें से 48 एशिया और प्रशांत क्षेत्र जबकि बाकी 19 अन्य क्षेत्र के हैं। एडीबी का मुख्य उद्देश्य सामाजिक और आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए ऋण, तकनीकी सहायता, अनुदान और इक्विटी निवेश प्रदान करके अपने सदस्यों और भागीदारों की सहायता करना है।

Tags: , , , , ,

Categories:

Advertisement