भारत-जापान सम्बन्ध

केन्द्रीय कैबिनेट ने जापान के साथ करेंसी स्वैप के समझौते को मंज़ूरी दी

केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने जापान के साथ 75 अरब डॉलर के करेंसी स्वैप समझौते को मंज़ूरी दे दी है। यह समझौते भारत-जापान आर्थिक संबंधों में एक मील का पत्थर है। इससे दोनों देशों के बीच आर्थिक व सामरिक सहयोग में वृद्धि होगी।

करेंसी स्वैप समझौता (मुद्रा विनिमय) क्या है?

करेंसी स्वैप समझौता एक विदेशी विनिमय समझौता है यह दो पक्षों के बीच में एक मुद्रा के बदले दूसरी मुद्रा के लिए एक निश्चित समय तक के लिए किया जाता है।

यह समझौता भारत के लिए किस प्रकार लाभदायक है?

  • करेंसी स्वैप (मुद्रा विनिमय) से भारत को आयात का भुगतान करने में आसानी होगी। इससे अवमूल्यन की समस्या भी दूर हो जाएगी।
  • चूंकि मुद्रा विनिमय में स्थानीय मुद्राओं में व्यापार किया जाता है। दोनों देशों आयात व निर्यात के लिए अपनी मुद्राओं से भुगतान करते हैं। इससे तीसरे पक्ष की मुद्रा की आवश्यकता नहीं पड़ती तथा मुद्रा विनिमय पर व्यय नहीं करना पड़ता।
  • मुद्रा विनिमय से तरलता को बेहतर बनाने में सहायता मिलती है।
  • मुश्किल समय के लिए मुद्रा विनिमय काफी उपयोगी होता है।
  • मुद्रा विनिमय से देश का भुगतान शेष भी स्थिर होता है।

इस मुद्रा विनिमय समझौते पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे के बीच पिछले वर्ष अक्टूबर में सहमती बनी थी।

Tags: , , , , , ,

Categories:

शिन्यु मैत्री 18: भारत और जापान के बीच पहला युद्ध अभ्यास आगरा में शुरू हुआ

भारत और जापान के बीच पहल हवाई युद्ध अभ्यास “शिन्यु मैत्री 18” उत्तर प्रदेश के आगरा में शुरू हुआ। इस अभ्यास की थीम “परिवहन एयरक्राफ्ट पर संयुक्त मोबिलिटी/मानवीय सहायता तथा आपदा राहत” है ।

शिन्यु मैत्री 18

भारतीय वायुसेना और जापानी वायुसेना के बीच आयोजित किये जाने वाले इस अभ्यास का केंद्र बिंदु मानवीय सहायता तथा आपदा राहत कार्य के लिए अभ्यास करना है। इस अभ्यास में दोनों देशों की वायुसेनाओं हेअविंग लोडिंग/ऑफ लोडिंग का अभ्यास भी करेंगी।  इस अभ्यास में जापानी वायुसेना का C2 एयरक्राफ्ट, एयर क्रू तथा पर्यवेक्षक हिस्सा ले रहे हैं । भारतीय वायुसेना इस अभ्यास में C17 तथा An-32 एयरक्राफ्ट, एयर क्रू तथा पर्यवेक्षकों के साथ हिस्सा ले रही है ।

Tags: , , , , , ,

Categories:

भारत-जापान संयुक्त सैन्य अभ्यास “धर्म गार्डियन” 2018 का समापन हुआ

भारत और जापान के बीच 14 नवम्बर, 2018 को “धर्म गार्डियन” संयुक्त युद्ध अभ्यास का समापन हुआ। इस युद्ध अभ्यास का आयोजन मिजोरम के वेरेंटे में किया गया। इस युद्ध अभ्यास में दोनों देशों की सेनाओं ने आतंकवादी घटनाओं से निपटने के लिए युद्ध अभ्यास किया।

धर्म गार्डियन 2018

इस संयुक्त सैन्य अभ्यास में जंगली इलाके में युधाभ्यास किया गया। इसका उद्देश्य दोनों देशों की सेनाओं के बीच इंटर-ओपेराबिलिटी को बढ़ावा देना, इससे सुरक्षा सम्बन्धी चुनौतियों के सामने करने के लिए समन्वय भी बेहतर बनाने में सहायता मिली। इस युद्ध अभ्यास में दोनों देशों की सेनाओं ने युद्ध की स्थिति के लिए अभ्यास किया तथा युद्ध के मध्यनज़र योजना निर्माण तथा उसके क्रियान्वयन का अभ्यास भी किया गया।

इस दौरान दोनों देशों से सुरक्षा विशेषज्ञों ने सेना के कार्य सम्बन्धी विभिन्न पहलुओं पर अपने विचार साझा किये। इस संयुक्त सैन्य अभ्यास में भारत का प्रतिनिधित्व 6/1 गोरखा राइफल्स द्वारा किया, जबकि जापान का प्रतिनिधित्व जापानी थलीय सुरक्षा बल की 32 इन्फेंट्री रेजिमेंट द्वारा किया।

यह संयुक्त सैन्य अभ्यास से दोनों देशों के बीच आपसी सम्बन्ध बेहतर बनाने तथा आतंकवाद के विरुद्ध लड़ने में काफी महत्वपूर्ण है। भारत और जापान के प्रगतिशील सबंधों में यह एक महत्वपूर्ण कदम सिद्ध होगा।

Tags: , , , , ,

Categories:

Advertisement