प्राचीन भारतीय इतिहास : 4 – सिंधु घाटी सभ्यता के प्रमुख स्थल

हड़प्पा

सिन्धु घाटी सभ्यता में हड़प्पा की खोज सबसे पहले की गयी थी, इस कारण इसे हड़प्पा संस्कृति भी कहा जाता है। वर्तमान में हड़प्पा पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में साहिवाल के पश्चिम में 24 किलोमीटर दूर स्थित है। प्राचीन हड़प्पा का अनुमानित क्षेत्रफल लगभग 150 हेक्टेयर था। हड़प्पा में दो प्रमुख टीले हैं – पूर्व में स्थित नगर टीला व पश्चिम में स्थित दुर्ग टीला। हड़प्पा से स्टेटाइट की मुहरें प्राप्त हुई हैं, इन मुहरों पर मनुष्य और पशुओं की आकृतियाँ बनी हुई हैं। हड़प्पा में मृतकों के शवों को उत्तर-दक्षिण दिशा में दफनाया जाता है। हड़प्पा में स्थित कब्रों से कांसे का दर्पण व चम्मच इत्यादि सामान प्राप्त हुआ है। इस स्थान की खुदाई सर्वप्रथम दया राम साहनी ने की थी। सर जॉन मार्शल उस समय भारतीय पुरातत्व विभाग के निदेशक थे।

मोहनजोदड़ो

मोहनजोदड़ो पाकिस्तान के सिंध प्राप्त में स्थित है, यह सिन्धु घाटी सभ्यता की सबसे बड़ी बस्तियों में से एक थी। मोहनजोदड़ो लगभग 250 हेक्टेयर क्षेत्र में फैला हुआ था। मोहनजोदड़ो का शाब्दिक अर्थ “मुर्दों का टीला” होता है। यह विश्व का प्राचीनतम नियोजित नगरों में से एक है, इसकी खोज 1922 में राखालदास बनर्जी ने की थी। मोहनजोदड़ो से कांसे से बनी नर्तकी की मूर्ती, एक सभागार, मिट्टी के बर्तन व घोड़े के कुछ अवशेष प्राप्त हुए हैं। मोहनजोदड़ो में एक मुद्रा भी प्राप्त हुई है, इस मुद्रा पर आधा भाग मानव व आधा भाग बाघ का है।

मोहनजोदड़ो में भवनों का निर्माण पक्की ईंटों से किया गया था, यह शहर ग्रिड व्यवस्था पर आधारित था। मोहनजोदड़ो को दो भागों में बांटा जाता है – किला व निचला नगर। मोहनजोदड़ो में विशाल अन्नागार, सभागार इत्यादि के अवशेष पाए गए हैं। ऐसा माना जाता है कि मोहनजोदड़ो सिन्धु घाटी सभ्यता का प्रशासनिक केंद्र था।

कालीबंगा

कालीबंगा भारत में स्थित है, यह राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले में स्थित है। यह घग्गर नदी के किनारे पर बसा हुआ है। कालीबंगा का शाब्दिक अर्थ “काले रंग की चूड़ियाँ’ होता है। कालीबंगा में विश्व के सबसे पुराने हल से जुते हुए हुए खेत के प्रमाण मिले हैं। यहाँ से अग्निवेदिका के साक्ष्य मिले हैं। कालीबंगा में ईंटों से बना हुआ चबूतरा, कई घरों में कुँए इत्यादि पाए गए हैं, यह सिन्धु घाटी सभ्यता का एकमात्र ऐसा स्थान है जहाँ पर अलंकृत ईंटें पायी गयी हैं। कालीबंगा सिन्धु घाटी एक मात्र ऐसा स्थान है जहाँ से मातृदेवी की पूजा के साक्ष्य नहीं मिले हैं।

चन्हूदड़ो

चन्हूदड़ो वर्तमान में पाकिस्तान के सिंध प्रांत में मोहनजोदड़ो के दक्षिण में स्थित है, यह लगभग 5 हेक्टेयर में फैला हुआ है। यहाँ पर प्राक हड़प्पा संस्कृति, झूकर और झांगर संस्कृति के अवशेष भी प्राप्त हुए हैं।चंहूदड़ो में किलेबंदी के साक्ष्य नहीं मिले हैं। यहाँ पर प्राप्त प्रमुख अवशेष इस प्रकार से हैं : जला हुआ कपाल, चार पहियों वाली गाड़ी, मिट्टी की मुद्रा, ईंट पर बिल्ली व कुत्ते के पंजे के निशान। यह सिन्धु घाटी सभ्यता का एकमात्र एशिया स्थान है जहाँ पर वक्राकार ईंटें मिली हैं।चंहूदड़ो में सबसे पहले खुदाई एन.जी. मजूमदार ने मार्च 1930 में की थी।

लोथल

लोथल सिन्धु घाटी सभ्यता के सबसे दक्षिणी नगरों में से एक है, यह एक बंदरगाह नगर था। वर्तमान में लोथल गुजरात राज्य में स्थित है। इसकी खोज 1954 में की गई थी। लोथल में फारस की मुहर, धान बा बाजरा के अवशेष मिले हैं। इसके साथ-साथ लोथल में पक्के रंगों से चित्रित पात्र, घोड़े की लघु मृणमूर्ति इत्यादि प्राप्त हुई है। लोथल में ताम्बे और सोने का कार्य करने की कार्यशालाओं के संकेत भी मिले हैं।

अन्य प्राप्त अवशेषों में नाव के आकार के मुहरें, लकड़ी के अन्नागार, हाथी दांत और सीप का पैमान, एक दिशा मापक यंत्र, ताम्बे का पक्षी, बैल, खरगोश और कुत्ते की आकृतियाँ प्रमुख हैं। लोथल में आटा पीसने के दो पाट मिले हैं, यह सिन्धु घाटी सभ्यता में किसी और स्थान पर नहीं मिले हैं। लोथल से मेसोपोटामिया की तीन बेलनाकार मुहरें भी प्राप्त हुई हैं। लोथल में पहली बार खुदाई 13 फरवरी, 1955 से 19 मई 1960 के बीच भारतीय पुरातत्व विभाग द्वारा की गयी। लोथल में खोज कार्य के दौरान प्राप्त बंदरगाह संभवतः विश्व की प्राचीनतम बन्दरगाह है।

रोजदी

रोजदी वर्तमान में गुजरात के राजकोटजिले में स्थित है, इस स्थान का उत्खनन 1982 से 1995 के बीच 7 बार किया गया। रोजदी में कच्ची ईंट के चबूतरें, नालियों सहित बिल्लौर, गोमेद पत्थर से बने बाट व पक्की मिट्टी के मनके प्राप्त हुए हैं। रोजदी में पाए गए मृदभांड अधिकतर पक्की मिटटी के बने हैं, इनमे सिन्धु घटी सभ्यता की चित्रात्मक लिपि में चित्र अंकित किये गए हैं। रोजदी ने उत्खनन कार्य 1982 से 1995 में बीच गुजरात पुरातत्व विभाग और अमेरिका की पेन्सिल्वेनिया विश्वविद्यालय द्वारा किया गया था।

बनावली

बनावली वर्तमान में हरियाणा राज्य के फतेहाबाद जिले में स्थित है। इस स्थान पर सबसे पहले आर.एस. बिष्ट ने उत्खनन किया। बनावली से कई प्रकार के बर्तन, मृदभांड व अन्य वस्तुएं प्राप्त हुई है। बनावली से प्राप्त मुहरों पर गैंडा, जंगली बकरी, आईबेक्स इत्यादि जानवर चित्रित हैं।

रोपड़

रोपड़ को रूपनगर भी कहा जाता है, वर्तमान में यह भारत के पंजाब राज्य में स्थित है। रोपड़ से ताम्बे की कुल्हाड़ी, मिट्टी के बर्तन, आभूषण व फलक इत्यादि प्राप्त हुए हैं। रोपड़ एक विशिष्ट खोज कब्र में व्यक्ति के साथ कुत्ते के अवशेष की प्राप्ति है। रोपड़ में शवों को अंडाकार गड्ढों में दफ़नाने के साक्ष्य मिलते हैं। कई कब्रों से मिट्टी के बर्तन, आभूषण, शंख की चूड़ियाँ, गोमेद के मनके और ताम्बे की अंगूठियाँ इत्यादि प्राप्त हुए हैं।

सुरकोतदा

सुरकोतदा गुजरात के कच्छ जिले में स्थित है, यह केवल 1.4 हेक्टेयर में फैला हुआ है। इस स्थान पर घोड़े के अवशेष पाए गए हैं। यह गढ़ी और आवास क्षेत्र में बंटा हुआ था। सुरकोतदा में बड़े पत्थर से ढकी हुई कब्र भी मिली है तत्व एक कब्र में कलश भी प्राप्त हुआ है।

धौलावीरा

धौलावीरा गुजरात के कच्छ जिले में भचाऊ क्षेत्र में स्थित है, यह 47 हेक्टेयर क्षेत्र में फैला हुआ है। यह कर्क रेखा पर स्थित है। धौलावीरा का शाब्दिक अर्थ “सफ़ेद कुआँ” होता है। यह एक सुनियोजित नगर था, यह चतुर्भुज रूप में निर्मित किया गया था। धौलावीरा से अभिलेख, मिट्टी की कंघी और स्टेडियम के साक्ष्य मिले हैं। यह लगभग 120 हेक्टेयर क्षेत्र में फैला हुआ था। यहाँ पर मानवीय गतिविधियां 2625 ईसा पूर्व से लेकर 2100 ईसा पूर्व तक काफी अधिक थी। धीरे-धीरे इसका पतन होने लगा, लगभग 1450 ईसा पूर्व में यह निर्जन स्थान बन गया था।

बालाकोट

बालाकोट वर्तमान में पाकिस्तान के खायबर पख्तुन्ख्वा प्रांत में स्थित है। यह कुन्हार नदी के तट पर स्थित है। बालाकोट में कच्ची ईंटों का उपयोग बड़े पैमाने पर किया गया है। यह सीप उपयोग के लिए जाना जाता है। बालाकोट से सीप से निर्म्नित चूड़ियों के अवशेष मिले हैं। बालाकोट से एक भट्ठी भी प्राप्त हुई है, संभवतः यहाँ पर सेरामिक वस्तुओं का निर्माण किया जाता था।

कोटदीजी

कोटदीजी पाकिस्तान के सिंध प्रांत में खैरपुर में स्थित है। यह रोहरी पहाड़ी की तलहटियों में स्थित है। यहाँ पर मकानों को नीव पर बनाने के साक्ष्य मिलते हैं। कोटदिजी से कांसे से बनी चूड़ी, मृदभांड, झुमका इत्यादि प्राप्त हुए हैं। पाकिस्तान के पुरातत्व विभाग ने 1955 और 1957 में इस स्थान पर उत्खनन का कार्य किया था। यहाँ पर एक किलेबंद नगर की प्राप्त रहमान धेरी नामक स्थान में हुई है।

अलीमुराद 

अलीमुराद एक ग्रामीण स्थल है, यह बहुत छोटा है, ये चारों ओर से पत्थर की दीवार से घिरा हुआ है। अलीमुराद में कांसे की कुल्हाड़ी और चांदी के आभूषण व कुएँ की प्राप्ति हुई है।

संघोल

संघोल भारत के पंजाब राज्य में फतेहगढ़ साहिब जिले में स्थित है। संघोल में ताम्बे की दो छेनियाँ और वृत्ताकार अग्नि कुंड पाए गए हैं।

मीताथल

मीताथल हरियाणा के भिवानी जिले में स्थित है। इस स्थान का उत्खनन 1968 में सूरजभान ने किया था। मीताथल से ताम्बे की कुल्हाड़ी और चांदी के आभूषण की प्राप्ति हुई है।

कुंतासी

कुंतासी गुजरात के मोरबी जिले में स्थित है। यह फुल्की नदी के किनारे पर स्थित है। यह लगभग 2 हेक्टेयर क्षेत्र में फैला हुआ है। कुंतासी से चित्रित मृदभांड की प्राप्ति हुई है।

Advertisement

Comments