विज्ञापन

भारत के पवित्र ग्रंथ

सभी धर्मों के अपने-अपने पवित्र ग्रंथ हैं। इन शास्त्रों को मूल में दिव्य और पवित्र माना जाता है।

हिंदू धर्म एक विशाल धर्म है और इसके विभिन्न ग्रंथ हैं जिन्हें वे पवित्र मानते हैं। वेद बहुत महत्वपूर्ण धार्मिक शास्त्र हैं। वेद 4 हैं- ऋग्वेद, यजुर्वेद, सामवेद, अथर्ववेद। वेदों में ऋग्वेद की रचना 1300-1500 ईसा पूर्व के बीच की मानी जाती है और इसे विश्व का सबसे बड़ा धर्मग्रंथ माना जाता है। भगवद-गीता को सबसे महत्वपूर्ण धार्मिक पुस्तक माना जाता है। हिन्दू धर्म के ग्रन्थों में 18 पुराण हैं- ब्रह्म पुराण, पद्म पुराण, विष्णु पुराण, वायु पुराण (शिव पुराण), भागवत पुराण (देवीभागवत पुराण), नारद पुराण, मार्कण्डेय पुराण, अग्नि पुराण, भविष्य पुराण, ब्रह्म वैवर्त पुराण, लिंग पुराण, वाराह पुराण, स्कन्द पुराण, वामन पुराण, कूर्म पुराण, मत्स्य पुराण, गरुड़ पुराण, ब्रह्माण्ड पुराण। इसके अलावा रामायण, महाभारत, श्रीरामचरितमानस हिन्दू धर्म के प्रमुख ग्रंथ हैं।

जैन धर्म का साहित्य हिन्दू धर्म की तरह बहुत विशाल है। जैन धर्म हिंदुओं के समान ही प्राचीन है। इसमें बारह अंग, बारह उपांग, दस प्रकीर्ण, छेदसूत्र, मूलसूत्र आदि हैं।
नियत समय में बौद्ध धर्म ने नालंदा, विक्रमशिला और तक्षशिला में विश्वविद्यालयों की स्थापना की जिसमें कई भिक्षुओं और प्रमुखों ने अध्ययन किया। इन विश्वविद्यालयों के परिणामस्वरूप बड़ी संख्या में बौद्ध साहित्य का विकास हुआ है। इनमें से कई बौद्ध लेख तिब्बती ग्रंथों, चीनी अनुवादों और यहां तक ​​कि उत्तर-पश्चिम के देशों में भी पाए जाते हैं। बौद्ध धर्म ग्रंथ में त्रिपिटक प्रमुख हैं- विनय पिटक, अभिधम्म पिटक, सुत्त पिटक।

ईसाई बाइबिल यीशु के अनुयायियों द्वारा लिखी गई विभिन्न पुस्तकों से संकलित है।

पारसियों की पवित्र पुस्तक जेंदअवस्ता है।
सिखों की पवित्र पुस्तक गुरु ग्रंथ साहिब है जो सिखों की वर्तमान गुरु है।

विज्ञापन

Recent Current Affairs

विज्ञापन

Comments