हिंदी करेंट अफेयर्स प्रश्नोत्तरी : 19-20 अप्रैल, 2020

1. वैश्विक रेटिंग एजेंसी स्टैंडर्ड एंड पूअर्स के अनुसार वित्त वर्ष 2020-21 में भारत की विकास दर कितनी रहेगी? 
उत्तर – 1.8%
वैश्विक रेटिंग एजेंसी स्टैंडर्ड एंड पूअर्स ने हाल ही में वित्त वर्ष 2020-21 के लिए भारत के विकास अनुमान का अपना पूर्वानुमान जारी किया है। एसएंडपी ने भारत के जीडीपी विकास अनुमान को 3.5% के पिछले अनुमान से 1.8% तक घटा दिया है। एजेंसी ने यह भी चिंता व्यक्त की कि COVID-19 प्रकोप का चरम बिंदु अभी तक नहीं पहुंचा है और यह कई अन्य देशों की तुलना में थोड़ी देर बाद होने की उम्मीद है।
2. केंद्रीय गृह मंत्रालय ने किस वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग सॉफ्टवेयर को साइबर अपराधों के लिए संवेदनशील माना है? 
उत्तर – ज़ूम
हाल ही में गृह मंत्रालय के तहत संचालित साइबर समन्वय केंद्र (CyCord) ने ज़ूम एप्लीकेशन की सुरक्षा को लेकर चिंता व्यक्त की। जूम का उपयोग करने के लिए गृह मंत्रालय ने दिशानिर्देश जारी किए हैं। गृह मंत्रालय ने इंडियन कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम (सर्टिफिकेट-इन) का हवाला देते हुए जूम एप्लीकेशन पर चिंता व्यक्त की है। ज़ूम कॉन्फ्रेंस में अनधिकृत प्रविष्टि को रोकने और अन्य उपयोगकर्ताओं पर दुर्भावनापूर्ण हमले को रोकने के लिए दिशानिर्देश जारी किए गए हैं।
3. विदेश व्यापार महानिदेशालय (DGFT) ने किस दवा से बने योगों के निर्यात पर प्रतिबंध हटा दिया है? 
उत्तर – पेरासिटामोल
विदेश व्यापार महानिदेशालय (DGFT) ने पैरासिटामोल के निर्माण और दवा के निर्धारित खुराक संयोजन के निर्यात पर प्रतिबंध हटा दिया है। घरेलू आपूर्ति संबंधी चिंताओं के मद्देनजर, DGFT ने मार्च 2020 में पेरासिटामोल और 13 अन्य सक्रिय फार्मास्युटिकल इन्ग्रीडिएंट (API) के निर्यात पर रोक लगा दी थी।
4. ‘असेस कोरो ना’ एक नया एप्लिकेशन है जिसमें COVID-19 के प्रसार के लिए किस भारतीय राज्य/केंद्र शासित प्रदेश में लांच किया गया है? 
उत्तर – दिल्ली
हाल ही में दिल्ली सरकार ने डोर टू डोर सर्वे करने के लिए “असेस कोरो ना” एप्लिकेशन लॉन्च की। इस एप्लीकेशन को COVID-19 नियंत्रण क्षेत्र में शुरू किया गया है। यह मोबाइल एप्लिकेशन निर्णय लेने की प्रक्रिया को गति देगा क्योंकि यह वास्तविक समय के डाटा का विश्लेषण करता है। एकत्र किए गए डाटा को वास्तविक समय में सर्वर पर अपलोड किया जाता है। फिर डाटा का तुरंत विश्लेषण किया जाता है।
5. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, रोपड़ में शोधकर्ताओं द्वारा डिजाइन किए गए बॉट प्रोजेक्ट का नाम क्या है, जिसे COVID-19 मरीजों को आइसोलेशन वार्ड में दवाइयां और भोजन देने के लिए डिजाईन किया गया है? 
उत्तर – वार्डबॉट
पंजाब स्थित इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, रोपड़ के शोधकर्ताओं ने ‘वार्डबॉट’ नामक एक रोबोट का डिजाइन तैयार किया है, जो COVID -19 रोगियों को बिना स्वास्थ्य वर्कर के COVID-19 रोगियों तक दवा और भोजन पहुंचा सकता है। वार्डबॉट ‘स्मार्ट लाइन फॉलोइंग’ के सिद्धांत पर काम करता है और यह सेंसर का उपयोग करते हुए पूर्व-परिभाषित पथ पर आगे बढ़ सकता है। एक कंट्रोल रूम से संचालित होने के कारण, बॉट कुशलता से विभिन्न बिस्तरों को सामान वितरित कर सकता है और यह स्वचालित रूप से अपने पथ को साफ करता है।

25 दिसंबर 2019 से उपर्युक्त दैनिक प्रश्नोत्तरी में 5 प्रश्न प्रकाशित किए जाते हैं। यह प्रश्नोत्तरी, GKToday के Academy Android App पर प्रकाशित 20 प्रश्नो की दैनिक प्रश्नोत्तरी - 2020 का भाग है। यह दैनिक 20 प्रश्नो की प्रश्नोत्तरी हमारे Academy Android App पर पूरे वर्ष - 2020 के लिए मात्र 600 रुपये के शुल्क पर प्राप्त की जा सकती है।
« »

Advertisement

Comments