पर्यावरण एवं पारिस्थिकी करेंट अफेयर्स

यूरोपीय संघ ने सख्त जलवायु परिवर्तन योजनाएं जारी की

यूरोपीय संघ की कार्यकारी शाखा ने इस दशक में ग्लोबल वार्मिंग के कारण गैसों के उत्सर्जन में 55% की कटौती करने की अपनी प्रतिज्ञा को पूरा करने के लिए नया कानून जारी किया। “Fit for 55” कानून  यूरोपीय संघ के ‘Fit for 55’ कानून में विदेशी कंपनियों से होने वाले प्रदूषण के लिए कर लगाने

Month:

ग्लोबल वार्मिंग से मलेरिया, डेंगू से अरबों लोग प्रभावित हो सकते हैं : अध्ययन

लैंसेट प्लैनेटरी हेल्थ (Lancet Planetary Health) में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, पूर्व-औद्योगिक स्तर से 2100 तक तापमान में 3.7 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि से मलेरिया और डेंगू का घातक प्रकोप हो सकता है। मुख्य बिंदु ग्लोबल वार्मिंग ने बाढ़ और सूखे के खतरे को बढ़ा दिया है। शोधकर्ताओं ने एक एकीकृत बहु-मॉडल बहु-परिदृश्य ढांचे

Month:

पटना में बनेगा राष्ट्रीय डॉल्फिन अनुसंधान केंद्र (National Dolphin Research Centre)

बहुप्रतीक्षित राष्ट्रीय डॉल्फिन अनुसंधान केंद्र (National Dolphin Research Centre – NDRC) जल्द ही पटना में स्थापित किया जायेगा। इस अनुसंधान केंद्र स्थापित करने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। मुख्य बिंदु इस अनुसंधान केंद्र का खुलना लुप्तप्राय गंगा नदी डॉल्फिन (Gangetic River Dolphin) के संरक्षण की दिशा में एक बड़ा कदम होगा। अनुसंधान केंद्र स्थापित करने

Month:

विशालकाय पांडा (Giant Panda) असुरक्षित हैं, लुप्तप्राय नहीं : चीन

चीनी संरक्षण अधिकारियों ने घोषणा की है कि, चीनी विशाल पांडा (Chinese Giant Panda) अब एक लुप्तप्राय प्रजाति नहीं है। मुख्य बिंदु विशाल पांडा की स्थिति को “असुरक्षित” (vulnerable) में अपडेट किया गया है। अब जंगल में 1,800 विशाल पांडा रह रहे हैं। हाल के वर्षों के दौरान प्रकृति भंडार और अन्य संरक्षण पहलों को

Month:

मानव-वन्यजीव सह-अस्तित्व पर WWF-UNEP ने  रिपोर्ट जारी की

World Wide Fund for Nature (WWF) और संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) ने हाल ही में “A future for all – the need for human-wildlife coexistence” शीर्षक से अपनी रिपोर्ट जारी की। रिपोर्ट के प्रमुख निष्कर्ष इस रिपोर्ट के अनुसार, मानव-पशु संघर्ष दुनिया (human-animal conflict) विश्व की सबसे प्रतिष्ठित प्रजातियों के दीर्घकालिक अस्तित्व के लिए

Month:

भारत में हर साल असामान्य तापमान के कारण होती हैं 7 लाख से अधिक मौतें : अध्ययन

लैंसेट प्लैनेटरी हेल्थ जर्नल (Lancet Planetary Health Journal) द्वारा प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, भारत में सालाना लगभग 7,40,000 मौतें जलवायु परिवर्तन के कारण असामान्य गर्म और ठंडे तापमान से जुड़ी हैं। मुख्य बिंदु ऑस्ट्रेलिया में मोनाश विश्वविद्यालय (Monash University) के शोधकर्ताओं के नेतृत्व में एक अंतर्राष्ट्रीय टीम द्वारा अध्ययन किया गया था। इस अध्ययन

Month:

2 / 23<1234>>>

Advertisement