राष्ट्रीय करेंट अफेयर्स

“भारत का अमृत महोत्सव” क्या है?

केंद्र सरकार अगले महीने “भारत का अमृत महोत्सव” शुरू करेगी। यह महोत्सव भारत की आजादी के 75वें वर्ष के लिए एक प्रकार का काउंटडाउन है।

मुख्य बिंदु

भारत सरकार ने 15 अगस्त, 2022 से 75 सप्ताह पहले भारतीय स्वतंत्रता के 75 वर्षों का जश्न शुरू करने का फैसला किया है। इस महोत्सव का उद्देश्य India@2047 के लिए विज़न बनाना है। इस महोत्सव में तकनीकी और वैज्ञानिक उपलब्धियों के प्रदर्शन के साथ विभिन्न सामाजिक और सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे। इसके अलावा, इस इवेंट में  कुछ अज्ञात स्थानों और कुछ स्वतंत्रता सेनानियों के योगदान को ही प्रदर्शित किया जायेगा।

इस मौके  पर सरकार विभिन्न मेगा परियोजनाओं को राष्ट्र को समर्पित करेगी। अलग-अलग मंत्रालयों को अलग-अलग महत्वपूर्ण परियोजनाओं की पहचान करने के लिए कहा गया है और सभी मंत्रालयों को अगले महीने से India@ 75 समारोह शुरू करने के लिए कहा गया है।

इस हफ्ते से अंतर-मंत्रालयी बैठकें और समीक्षाएं शुरू होंगी। सचिवों के समूह को गतिविधियों/इवेंट के लिए विस्तृत योजना तैयार करने और 75 सप्ताह में से प्रत्येक के लिए एक साप्ताहिक विषय तैयार करने के लिए कहा गया है। सूचना और प्रसारण मंत्रालय जल्द ही समयसीमा के साथ इवेंट का एक कैलेंडर जारी करेगा। है।

सामाजिक न्याय और अधिकारिता विभाग को उच्च अनुसूचित जाति की आबादी वाले 10,000 गांवों में ‘मॉडल गांव’ सुविधाओं को लाने का काम दिया गया है। अल्पसंख्यक मंत्रालय जियारत और उमराह तीर्थयात्रियों को मक्का के अलावा पवित्र स्थलों के लिए हज समिति अधिनियम, 2002 में संशोधन पर विचार करेगा। इसी अवधि में 100 शहरों में सीवर सफाई का पूर्ण मशीनीकरण भी किया जाएगा।

Month:

आईसीटी क्षेत्र में भारत-जापान समझौता ज्ञापन : मुख्य बिंदु

भारत और जापान ने हाल ही में सूचना और संचार प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। इस समझौते में 5G का मानकीकरण भी शामिल था।

मुख्य बिंदु

भारत और जापान स्मार्ट शहरों, स्पेक्ट्रम प्रबंधन, असंबद्ध क्षेत्रों में ब्रॉडबैंड, सार्वजनिक सुरक्षा और आपदा प्रबंधन के लिए दूरसंचार सुरक्षा, 5G टेक्नोलॉजी इत्यादि के क्षेत्र में सहयोग को बढ़ावा देंगे।

भारत-जापान

सितंबर 2020 में, भारत और जापान ने सैन्य लॉजिस्टिक्स समझौते पर हस्ताक्षर किए थे। इस समझौते ने दोनों देशों को पारस्परिक आधार पर आपूर्ति और सेवाओं का आदान-प्रदान करने की अनुमति दी। जापान ऐसा छठा देश था जिसके साथ भारत ने इस प्रकार के समझौते पर हस्ताक्षर किये है। इससे पहले भारत ने अमेरिका, फ्रांस, सिंगापुर, दक्षिण कोरिया और ऑस्ट्रेलिया के साथ इस प्रकार के समझौते पर हस्ताक्षर किये है।

जापान ने 30% भारतीय हवाई जहाजों के निर्माण के लिए प्रतिबद्धता ज़ाहिर की है। इससे भारत के रक्षा विनिर्माण क्षेत्र को बढ़ावा मिलेगा।

भारत-जापान परमाणु समझौता

भारत और जापान ने 2015 में परमाणु समझौते पर हस्ताक्षर किए थे। इस समझौते के तहत, जापान भारत को परमाणु रिएक्टर, ईंधन और प्रौद्योगिकी की आपूर्ति कर सकता है। इस समझौते में भारत को 1,000 मेगावाट से अधिक क्षमता वाले परमाणु रिएक्टर खरीदने की अनुमति है। भारत को जापान से परमाणु ब्रीडर तकनीक और परमाणु ईंधन निर्माण तकनीक मिलेगी। भारत एकमात्र गैर-एनपीटी (परमाणु अप्रसार संधि-Non-Proliferation Treaty) हस्ताक्षरकर्ता है जिसके साथ जापान ने एक नागरिक परमाणु समझौते में प्रवेश किया है।

सैन्य अभ्यास

भारत और जापान की सेनाओं ने 2018 में पहला “धर्म गार्डियन” अभ्यास आयोजित किया था। इसके अलावा, भारतीय और जापानी वायु सेना ने 2018 में अपना पहला द्विपक्षीय अभ्यास “शिन्यु मैत्री” आयोजित किया था। भारत और जापान नियमित रूप से ‘मालाबार’ नौसैनिक अभ्यास आयोजित करते हैं।

Month:

गोवा में शुरू हुआ 51वां भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (IFFI)

51वां भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (IFFI) 16 जनवरी, 2021 को गोवा में शुरू हुआ। इस फिल्म महोत्सव के उद्घाटन में सूचना व प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर और गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत भी मौजूद रहे।

इस फिल्म महोत्सव में बांग्लादेश ‘फोकस कंट्री’ होगा। ‘कंट्री इन फोकस’ एक विशेष खंड होता है जिसके द्वारा देश की सिनेमाई उत्कृष्टता और योगदान को सम्मानित किया जाता है। भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (IFFI)  का आयोजन गोवा में 16 से 24 जनवरी के बीच किया जाएगा। कोरोना महामारी को ध्यान में रखते हुए, IFFI अपना पहला हाइब्रिड फिल्म समारोह आयोजित करेगा।

मुख्य बिंदु

इस फिल्म महोत्सव में बांग्लादेश की चार फिल्मों का प्रदर्शन किया जायेगा, इसमें तनवीर मोकम्मल की ‘जिबोनधुली’, जाहिदुर रहीम अंजान की ‘मेघमल्लार’, रुबायत हुसैन की ‘अंडर कंस्ट्रक्शन’ और ‘सिंसियरली योर्स ढाका’ शामिल है।

इसके अलावा, उन कार्यक्रमों की लाइन-अप की घोषणा की गयी है, जो त्योहार के दौरान ओटीटी प्लेटफॉर्म पर दिखाई जाएँगी। इसमें ‘लाइव फ़्लेश’, ‘बैड एजुकेशन’, स्पैनिश फ़िल्म निर्माता पेड्रो अल्मोडोव्वर की ‘वोल्वर’ और स्वीडिश फ़िल्म निर्देशक रुबेन ओस्तलैंड की ‘स्क्वायर एंड फ़ोर्स मेजर शामिल हैं।

भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल (IFFI)

इस फिल्म फेस्टिवल का आयोजन केन्द्रीय सूचना व प्रसारण मंत्रालय, फिल्म महोत्सव निदेशालय तथा गोवासरकार द्वारा किया जा रहा है। भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल की स्थापना 1952 में हुई थी, तब से इस फिल्म फेस्टिवल का आयोजन प्रतिवर्ष गोवा में किया जाता है। इस फिल्म फेस्टिवल के द्वारा विश्व भर के सिनेमा को अपनी फिल्म कला का प्रदर्शन करने के लिए प्लेटफार्म प्राप्त होता है।

Month:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लांच किया विश्व का सबसे बड़ा COVID-19 टीकाकरण अभियान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 16 जनवरी, 2021 को दुनिया का सबसे बड़ा COVID-19 टीकाकरण अभियान लांच किया। इस अभियान के पहले चरण में 3 करोड़ लोगों को टीका लगाया जायेगा। जबकि दूसरे चरण में 30 करोड़ लोगों को टीका लगाया जायेगा।

मुख्य

इस अभियान के लिए लगभग सभी तैयारियां पूरी हो चुकी है। इस अभियान के लिए देश के विभिन्न हिस्सों में कोविशील्ड और कोवाक्सिन नामक कोविड-19 वैक्सीन को पहुँचाया गया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक सरकार द्वारा खरीदे गए कोविशिल्ड वैक्सीन के 1.1 करोड़ डोज़ में से 95 प्रतिशत को पिछले दो दिनों में पूरे भारत में लगभग 60 स्थानों को  भेज दिया गया है।

हैदराबाद बेस्ड भारत बायोटेक के स्वदेशी रूप से विकसित कोवाक्सिन की 55 लाख डोज़ में से, 2.4 लाख खुराक की पहली खेप 12 राज्यों में भेज दी गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा, टीके सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को उनके स्वास्थ्य वर्कर डेटाबेस के अनुपात में आवंटित किए गए हैं। कोविड-19 टीकाकरण की तैयारियों को पुख्ता करने के लिए हाल ही में देश भर के विभिन्न हिस्सों में ड्राई रन का आयोजन भी किया गया था।

कोविड-19 टीकाकरण के लिए प्राथमिकता

  • यह वैक्सीन सबसे पहले स्वास्थ्य सेवा श्रमिकों, 50 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्तियों और फ्रंटलाइन श्रमिकों को दिया जायेगा।
  • अगला फोकस 50 साल से कम उम्र के लोगों और रोग से पीड़ित लोगों पर किया जायेगा।
  • शेष आबादी को टीका उपलब्धता के आधार पर टीका प्राप्त होगा।

डिजिटल प्लेटफॉर्म

  • COVID-19 वैक्सीन इंटेलिजेंस नेटवर्क का उपयोग टीकाकरण के लिए असूचीबद्ध लाभार्थियों को ट्रैक करने के लिए किया जायेगा।
  • टीकाकरण स्थल पर केवल पूर्व पंजीकृत लाभार्थियों को ही टीका लगाया जायेगा ।

टीकाकरण सत्र

  • एक सत्र में केवल सौ लाभार्थियों को टीका लगाया जायेया।
  • राज्य और केंद्र शासित प्रदेश टीकाकरण के लिए विशिष्ट दिनों की पहचान कर सकते हैं।

टीकाकरण टीम

टीकाकरण टीम में 5 सदस्य शामिल होंगे। इसमें डॉक्टर, फार्मासिस्ट, स्टाफ नर्स या इंजेक्शन देने के लिए कानूनी रूप से अधिकृत कोई व्यक्ति  होगा। टीकाकरण अधिकारी 1 वह व्यक्ति होगा जो लाभार्थी के पंजीकरण की स्थिति की जाँच करेगा। यह पुलिस, नागरिक सुरक्षा, एनएसएस, एनसीसी, होम गार्ड से एक व्यक्ति होगा। टीकाकरण अधिकारी 2 वह व्यक्ति होगा जो पहचान दस्तावेजों को प्रमाणित करेगा। टीकाकरण अधिकारी 3 और 4 सहायक कर्मचारी हैं जो भीड़ प्रबंधन के लिए जिम्मेदार हैं।

Month:

NIC और CBSE ने लांच किया CollabCAD सॉफ्टवेयर

राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र और केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने मिलकर CollabCAD सॉफ्टवेयर लॉन्च किया है।

CollabCAD

CollabCAD सॉफ्टवेयर छात्रों और इंजीनियरिंग ग्राफिक्स पाठ्यक्रम के लिए इंजीनियरिंग समाधान प्रदान करता है। इसका उद्देश्य देश भर के छात्रों को डिजिटल डिज़ाइन बनाने और संशोधित करने के लिए एक मंच प्रदान करना है।

इसका उद्देश्य देश भर में अटल टिंकरिंग लैब्स के छात्रों को एक बेहतर मंच प्रदान करना है। इस सॉफ्टवेयर के साथ अटल टिंकरिंग लैब के छात्र रचनात्मकता के मुक्त प्रवाह के साथ 3डी डिजाइन बनाने और संशोधित करने में सक्षम होंगे।

CollabCAD

सॉफ्टवेयर की मुख्य विशेषताएं

  • सॉफ्टवेयर लिनक्स और ओएस प्लेटफ़ॉर्म पर चलता है।
  • यह स्टैंडअलोन और क्लाइंट सर्वर मोड दोनों में उपलब्ध है।

टिंकर फ्रॉम होम

भारत में बच्चों को ऑनलाइन सीखने के साधन प्राप्त करने में आसानी हो, यह सुनिश्चित करने के लिए अटल टिंकरिंग लैब प्रोग्राम द्वारा टिंकर फ्रॉम होम अभियान लॉन्च किया गया था।

भारत में अटल टिंकरिंग लैब्स

भारत में सात हजार से अधिक अटल टिंकरिंग लैब्स हैं। यह तीन मिलियन से अधिक छात्रों को समस्या हल करने और नवाचार करने में मदद करता है। अटल टिंकरिंग लैब्स की स्थापना नीति आयोग द्वारा की जाती है। अटल टिंकरिंग लैब्स की स्थापना ‘अटल इनोवेशन मिशन’ कार्यक्रम के तहत की गयी है।

अटल इनोवेशन मिशन

देश में उद्यमिता और नवाचार को बढ़ावा देने के लिए अटल इनोवेशन मिशन को लांच किया गया था।  स्वरोजगार को बढ़ावा देना और नवाचार के माध्यम से उद्यमशीलता को बढ़ावा देना इसका मुख्य कार्य है।

अटल इनोवेशन मिशन की प्रमुख पहलें

  • अटल न्यू इंडिया से उत्पाद नवोन्मेष को बढ़ावा मिलेगा।यह उन्हें विभिन्न मंत्रालयों की जरूरतों के लिए संरेखित करता है।
  • अटल इन्क्यूबेशन सेंटर विश्व स्तर के स्टार्टअप को बढ़ावा देते हैं और यह इनक्यूबेटर मॉडल में एक नया आयाम जोड़ेंगे।
  • मेंटर इंडिया अभियान एक राष्ट्रीय मेंटर नेटवर्क है जो अटल इनोवेशन मिशन की सभी पहलों का समर्थन करने के लिए कॉर्पोरेट और सार्वजनिक क्षेत्रों के सहयोग से शुरू किया गया है।
  • ARISE का अर्थ Atal Research and Innovation for Small Enterprises है। यह एमएसएमई उद्योग में अनुसंधान और नवाचार को प्रोत्साहित करता है।

Month:

15 जनवरी : भारतीय मौसम विज्ञान विभाग स्थापना दिवस

15 जनवरी, 2021 को भारतीय मौसम विज्ञान विभाग का 146वां स्थापना दिवस है। इसकी शुरुआत 1875 में हुई थी। इस दिवस को पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय द्वारा मनाया जाता है, भारतीय मौसम विज्ञान विभाग पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के अधीन कार्य करता है।

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग की हालिया उपलब्धियां

  • भारतीय मौसम विज्ञान विभाग की पांच वेधशालाओं को विश्व मौसम विज्ञान संगठन से मान्यता प्राप्त हुई है, यह वेधशालाएं चेन्नई, मुंबई, पुणे, तिरुवनंतपुरम और पंजिम में स्थित हैं।
  • इसके अलावा फेनी नामक चक्रवात के सटीक पूर्वानुमान के लिए वैश्विक स्तर पर भारतीय मौसम विज्ञान विभाग की प्रशंसा की गयी।
  • अगस्त, 2019 में CDES (Centralised Data Entry System) ने DATEN9 सॉफ्टवेयर का स्थान लिया। 91 वेधशालाएं व 40 एअरपोर्ट इस सिस्टम का उपयोग कर रहे हैं।

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के अंतर्गत भारत सरकार के मौसम विज्ञान प्रक्षेण, मौसम पूर्वानुमान और भूकम्प विज्ञान का कार्यभार सँभालने वाली भारतीय मौसम विज्ञान विभाग एक सरकारी एजेंसी है। इसका मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है। भारत से लेकर अंटार्कटिका भर में सैकड़ों प्रक्षेण स्टेशन भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के द्वारा वर्त्तमान में चलाये जाते हैं।

Month:

1 / 25123>>>

Advertisement