इनफ़ोसिस

इनफ़ोसिस पुरस्कार, 2020 की घोषणा की गयी

2 दिसंबर, 2020 को इनफ़ोसिसपुरस्कार, 2020 की घोषणा की गई थी। इस स्वर्ण पदक के साथ एक लाख अमरीकी डालर की पुरस्कार राशि की जाती है और छह क्षेत्रों अर्थात् मानविकी, इंजीनियरिंग और कंप्यूटर विज्ञान, गणितीय विज्ञान, जीवन विज्ञान, सामाजिक विज्ञान और भौतिक विज्ञान में प्रदान किया जाता है।  इस पुरस्कार के विजेता हैं : Centre of studies in Social Sciences and Humanities की प्राची देशपांडे, मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड कंप्यूटर साइंस  के हरि बालकृष्णन, सेंटर फॉर सेल्युलर बायोलॉजी के राजन शंकरनारायणन, IISc बंगलौर के अरिंदम घोष, गणितीय विज्ञान के लिए स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय के सौरव चटर्जी और सामाजिक विज्ञान के लिए हार्वर्ड विश्वविद्यालय के राज चेट्टी।

इनफ़ोसिस पुरस्कार

इनफ़ोसिस पुरस्कार एक वार्षिक पुरस्कार है, यह पुरस्कार अनुसंधानकर्ताओं, वैज्ञानिकों, सामाजिक वैज्ञानिकों और इंजिनियरों को प्रदान किया जाता है। यह पुरस्कार इनफ़ोसिस विज्ञान फाउंडेशन द्वारा दिया जाता है। यह पुरस्कार जैव विज्ञान, गणित, इंजीनियरिंग व कंप्यूटर विज्ञान, सामाजिक विज्ञान, भौतिक विज्ञान और मानविकी के क्षेत्र में दिया जाता है। प्रत्येक विजेता को 22 कैरट का स्वर्ण पदक, एक प्रशस्ति प्रमाण पत्र तथा 100000 (72 लाख रुपये) डॉलर इनामस्वरुप दिए जाते हैं। यह भारत में वैज्ञानिक शोध के क्षेत्र में सबसे अधिक धनराशी वाला पुरस्कार है।

इनफ़ोसिस

इनफ़ोसिस भारत की सबसे अग्रणी कंपनियों में से एक है। इनफ़ोसिस की स्थापना 7 जुलाई, 1981 को एन.आर. नारायण मूर्ती, नंदन नीलेकणी, एस. गोपालकृष्णन, एस. डी. शिबूलाल, के. दिनेश, एन. एस. राघवन ने की थी। इसका मुख्यालय कर्नाटक के बंगलुरु में स्थित है। इनफ़ोसिस में 2,25,000 से अधिक लोग कार्यरत्त हैं। 2017 में यह राजस्व के आधार पर भारत की दूसरी सबसे बड़ी आईटी कंपनी थी।

Month:

Advertisement