इसरो

इसरो 100 अटल टिंकरिंग लैब्स को अडॉप्ट करेगा

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ने हाल ही में घोषणा की कि वह देश भर में 100 अटल टिंकरिंग लैब्स को अडॉप्ट करेगा। मुख्य बिंदु 100 अटल टिंकरिंग लैब्स को अपनाकर, इसरो अत्याधुनिक तकनीकों में छात्रों को मेंटरिंग और कोचिंग की सुविधा प्रदान करेगा। इसमें अंतरिक्ष से जुड़ी तकनीकें भी शामिल हैं। इस पहल के द्वारा इसरो

Month:

इसरो ने NETRA के लिए कण्ट्रोल सेंटर स्थापित किया

हाल ही में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ने देश में स्पेस सिचुएशनल अवेयरनेस (SSA) गतिविधियों के लिए एक समर्पित नियंत्रण केंद्र स्थापित किया। इसे  NETRA कहा जाता है। NETRA का Network for space object Tracking and Analysis है। इस परियोजना का उद्देश्य भारत की अंतरिक्ष परिसंपत्तियों की निगरानी करना, उन्हें ट्रैक करना और उनकी सुरक्षा करना है।

Month:

इसरो CMS-01 उपग्रह को सफलतापूर्वक लांच किया

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ने PSLV-C50 के द्वारा संचार उपग्रह CMS-01 को लॉन्च कर दिया गया है। यह भारत का 42वां संचार उपग्रह है। इस उपग्रह को इसकी कक्षा में स्थापित कर दिया गया है। मुख्य बिंदु यह PSLV का 52वाँ मिशन था। इस लांच व्हीकल में 6 स्ट्रैप-ऑन मोटर लगे हैं,  ‘XL’ कॉन्फ़िगरेशन में यह PSLV

Month:

इसरो लांच करेगा संचार उपग्रह सीएमएस-01

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन PSLV-C50 के द्वारा संचार उपग्रह CMS-01 को लॉन्च करने जा रहा है। यह भारत का 42वां संचार उपग्रह है और इसे 17 दिसंबर, 2020 को लॉन्च किया जाएगा। मुख्य बिंदु यह PSLV का 52वाँ मिशन है। इस लांच व्हीकल में 6 स्ट्रैप-ऑन मोटर लगे हैं,  ‘XL’ कॉन्फ़िगरेशन में यह PSLV की 22वीं उड़ान

Month:

राकेट बनाने में अग्निकुल कॉसमॉस की सहायता करेगा इसरो

निजी क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन, चेन्नई स्थित रॉकेट स्टार्टअप अग्निकुल कॉसमॉस की मदद करेगा। यह कंपनी को अपने छोटे रॉकेट का परीक्षण करने में मदद करेगा, यह राकेट 100 किलोग्राम के उपग्रह को निम्न पृथ्वी की कक्षा में ले जा सकता है। अग्निकुल कॉसमॉस एक निजी अन्तरिक्ष कंपनी है, इसकी

Month:

इसरो को सौंपा गया C32 LH2 प्रोपेलेंट टैंक, जानिए यह इसरो के किस काम आएगा?

C32 LH2 प्रोपेलेंट टैंक में सुर्ख़ियों में था। दरअसल, C32 LH2, हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड द्वारा बनाया गया सबसे बड़ा क्रायोजेनिक प्रोपेलेंट टैंक है।  हाल ही में यह टैंक इसरो को डिलीवर किया गया। इसे इसरो के जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल मार्क III (GSLV Mk III) की पेलोड क्षमता को 4 टन से बढ़ाकर 6 टन करने

Month:

3 / 3123

Advertisement