कार्बन डाइऑक्साइड

नासा के पेरसेवरांस रोवर ने मंगल ग्रह पर ऑक्सीजन का निर्माण किया

नासा के मंगल 2020 मिशन के पेरसेवरांस रोवर (Perseverance rover) ने हाल ही में कार्बन डाइऑक्साइड को ऑक्सीजन में परिवर्तित किया। यह पहली बार है जब किसी अन्य ग्रह में यह कार्य किया गया है। यह MOXIE द्वारा किया गया था, यह उपकरण रोवर के सामने की ओर रखा गया है।

MOXIE क्या है?

  • MOXIE का अर्थ Mars Oxygen In-Situ Resource Utilisation Experiment है। यह रोवर के सामने की ओर रखा गया एक गोल्डन बॉक्स है।
  • MOXIE को “मैकेनिकल ट्री” भी कहा जाता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि यह कार्बन अणुओं को कार्बन और ऑक्सीजन में विभाजित करने के लिए बिजली और रसायन का उपयोग करता है। इस प्रक्रिया में, यह एक अतिरिक्त उत्पाद के रूप में कार्बन मोनोऑक्साइड का उत्पादन करता है।
  • MOXIE ने अपने पहले परीक्षण में 5 ग्राम ऑक्सीजन का उत्पादन किया।यह एक सामान्य गतिविधि करने वाले अंतरिक्ष यात्री के लिए दस मिनट तक सांस लेने के लिए ऑक्सीजन के बराबर है।
  • MOXIE एक घंटे में दस ग्राम ऑक्सीजन पैदा करने में सक्षम है।
  • MOXIE को मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (MIT) द्वारा डिजाइन किया गया था।
  • यह निकल-मिश्र धातु के साथ बनाया गया था।मिश्र धातु गर्मी प्रतिरोधी है और 1,470 डिग्री फ़ारेनहाइट के तापमान को सहन करने में सक्षम है।
  • MOXIE को सोने के लेप से ढका गया है ताकि गर्मी रोवर को नुकसान न पहुंचाए।
  • MIT के वैज्ञानिकों के अनुसार, MOXIE का एक टन संस्करण 25 टन ऑक्सीजन का उत्पादन करने में सक्षम है।

पेरसेवरांस (Perseverance)

18 फरवरी, 2021 को मंगल ग्रह पर पेरसेवरांस ने लैंडिंग की थी। इन्जेन्यूटी हेलीकॉप्टर ने हाल ही में अपनी सफल उड़ान भरी। यह किसी दूसरे ग्रह में हेलिकॉप्टर की पहली उड़ान थी।

Month:

Advertisement