कोविशील्ड

यूरोपीय संघ (European Union) की ग्रीन पास (Green Pass) सूची क्या है?

यूरोपियन मेडिसिन एजेंसी (EMA) ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) द्वारा निर्मित कोविशील्ड को ‘ग्रीन पास’ के लिए अनुमोदित टीकों की सूची से बाहर कर दिया है। EMA के अनुसार, इस वैक्सीन को सूची से बाहर रखा गया था क्योंकि इसके पास यूरोपीय संघ (EU) में विपणन प्राधिकरण (marketing authorisation) नहीं है। मुख्य बिंदु कोविशील्ड

Month:

ZyCoV-D – दुनिया का पहला DNA-बेस्ड टीका

भारतीय दवा कंपनी जायडस कैडिला (Zydus Cadila) इस हफ्ते Central Drugs Regulator के पास कोरोना वैक्सीन ZyCoV-D की आपातकालीन मंज़ूरी (emergency approval) के लिए आवेदन कर सकती है। अगर Zydus Cadila को यह मंजूरी मिल जाती है तो यह दुनिया की पहली DNA बेस्ड वैक्सीन होगी। इसके साथ ही देश में उपलब्ध टीकों की संख्या बढ़कर 4

Month:

निजी अस्पतालों के लिए कोविड-19 के टीके की कीमतें तय की गयी

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने निजी अस्पतालों में कोविड-19 के टीके लगाने की कीमत तय कर दी है। मुख्य बिंदु Covaxin की अधिकतम कीमत 1,400 रुपये तय की गई थी। कोविशील्ड की कीमत 780 रुपये प्रति खुराक। स्पुतनिक वी वैक्सीन की कीमत 1,145 रुपये प्रति खुराक होगी। अधिक कीमत वसूलने वाले निजी टीकाकरण केंद्रों के खिलाफ

Month:

दिसंबर तक COVID-19 टीकों की 44 करोड़ खुराक उपलब्ध होंगी

भारत सरकार ने कोविड-19 टीकाकरण अभियान को और तेज़ी से चालू कर दिया है। इसके लिए भारत सरकार ने टीकों के लिए एक नया आर्डर दिया है। मुख्य बिंदु दिसंबर, 2021 तक कोविड-19 टीकों की 44 करोड़ खुराकें उपलब्ध होंगी। इन खुराकों में से कोविशील्ड (Covishield) की 25 करोड़ और कोवाक्सिन (Covaxin) की 19 करोड़

Month:

भारत ने ‘वैक्सीन मैत्री पहल’ के तहत श्रीलंका को कोविशील्ड वैक्सीन भेजी

भारत ने अपनी “वैक्सीन मैत्री पहल” का विस्तार अब श्रीलंका तक कर दिया है। इस समझौते के अनुसार, भारत ने कोविशील्ड की 5,00,000 खुराक श्रीलंका को अनुदान सहायता के रूप में भेजीं है। ‘वैक्सीन मैत्री’ पहल ने अब तक भारत ने पड़ोस के सात देशों में लगभग पांच मिलियन खुराक वितरित की है। पृष्ठभूमि सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ

Month:

ऑक्सफ़ोर्ड-एस्ट्राज़ेनेका की वैक्सीन कोविशील्ड की आपातकालीन उपयोग के लिए अनुशंसा की गयी

Central Drugs Standard Control Organization (CDSCO) की विशेषज्ञ समिति ने हाल ही में ऑक्सफ़ोर्ड-एस्ट्राज़ेनेका की वैक्सीन कोविशील्ड की अनुशंसा आपातकालीन उपयोग के लिए की है। यह ऐसा पहला वैक्सीन है जिसे भारत में मंज़ूरी दी गयी है। इस वैक्सीन का निर्माण भारत में ही सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया द्वारा किया जा रहा है। गौरतलब है

Month:

2 / 212

Advertisement