ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल

भ्रष्टाचार धारणा सूचकांक 2020 (Corruption Perception Index 2020) जारी किया गया

हाल ही में ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल ने भ्रष्टाचार धारणा सूचकांक (सीपीआई) 2020 जारी किया है। इस सूचकांक के अनुसार, न्यूजीलैंड और डेनमार्क सबसे कम भ्रष्ट देश हैं।

मुख्य बिंदु

ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल ने 180 देशों को कवर करते हुए भ्रष्टाचार धारणा सूचकांक (सीपीआई) 2020 जारी किया है। यह सूचकांक भ्रष्टाचार के स्तर के अनुसार 100 के पैमाने पर देशों को रैंक करता है। यहां, 100 का मतलब पूरी तरह से साफ या गैर-भ्रष्ट देश है और ‘0’ का मतलब अत्यधिक भ्रष्ट है। इस सूचकांक न्यूजीलैंड और डेनमार्क द्वारा शीर्ष पर रहे; इन दोनों का सीपीआई स्कोर 100 में से 88 है। इस सूचकांक पर भारत 86वें स्थान पर है। पिछले वर्ष के सूचकांक की तुलना में भारत 6 स्थान नीचे फिसल गया है। भारत का सीपीआई स्कोर 40 है।

सोमालिया और दक्षिण सूडान को 12 के स्कोर के साथ सूचकांक में सबसे नीचे 179वें स्थान पर रखा गया है।

भ्रष्टाचार धारणा सूचकांक (Corruption Perception Index-CPI)

सीपीआई एक सूचकांक है, जो भ्रष्टाचार के आधार पर दुनिया भर में देशों को रैंकिंग प्रदान करता है, यह सूचकांक वर्ष 1995 से जारी किया जा रहा है।

ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल

ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल जर्मनी के बर्लिन में स्थित एक गैर-सरकारी संगठन है। इसकी स्थापना वर्ष 1993 में भ्रष्टाचार का मुकाबला करने और अपराध को रोकने के उद्देश्य से की गई थी।

Month:

Advertisement